अब सरकार ने इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम की समयसीमा को 31 अक्टूबर से बढ़ाकर 30 नवंबर कर दिया है. इसकी वजह यह है कि यह स्कीम अब तक तीन लाख करोड़ रुपये के लक्ष्य को पूरा करने में विफल रही है.

कोरोना संकट के बीच केंद्र सरकार ने MSME आसान शर्त पर कर्ज उपलब्ध कराने का ऐलान किया था. अब एक बार फिर इसकी तारीख बढ़ाकर 30 नवंबर कर दी गई है. दरअसल आत्मनिर्भर भारत पैकेज के तहत सरकार ने MSME को इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम (ईसीएलजीएस) के तौर पर 3 लाख करोड़ रुपये का कर्ज देने का लक्ष्य रखा था. 

अब सरकार ने इमरजेंसी क्रेडिट लाइन गारंटी स्कीम की समयसीमा को 31 अक्टूबर से बढ़ाकर 30 नवंबर कर दिया है. इसकी वजह यह है कि यह स्कीम अब तक तीन लाख करोड़ रुपये के लक्ष्य को पूरा करने में विफल रही है. 

पूरी स्टोरी पढ़िए