मोदी को चुनौती देने के लिए विपक्ष एकजुट हो: ममता

मोदी को चुनौती देने के लिए विपक्ष एकजुट हो: ममता



कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने इस बात की ओर पर्याप्त रूप से इशारा किया कि वह 2019 लोकसभा चुनाव में सभी विपक्षी पार्टियों को एक मंच पर लाने के लिए खुद पहल करने से नहीं हिचकेंगी। तृणमूल कांग्रेस मुखिया ने ‘सामूहिक नेतृत्व’ पर भी जोर दिया और मोदी सरकार को विश्वासयोग्य चुनौती पेश करने के लिए विपक्ष के लगातार एक साथ काम करने पर जोर दिया।

केंद्र सरकार को झटका, हाई कोर्ट का ‘एस दुर्गा’ की स्क्रीनिंग पर रोक से इनकार

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी शुक्रवार को एक कार्यक्रम को सम्बोधित कर रही थीं। उन्होंने कहा कि यह निर्भर करेगा, हम वैसे भी संसद में साथ काम कर रहे हैं। हम देखेंगे। मैं पटना में (राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख) लालू प्रसादजी के पास गई थी। मेरे (समाजवादी पार्टी अध्यक्ष) अखिलेशजी और (बसपा प्रमुख) मायावतीजी के साथ अच्छे संबंध हैं। ममता ने 2019 चुनावों में महागठबंधन के बारे में पूछे जाने पर कहा कि साथ ही, मेरे द्रविड़ मुनेत्र कडग़म (द्रमुक) के स्टालिन और ओडिशा में नवीन पटनायकजी के साथ अच्छे सम्बंध हैं। महाराष्ट्र में उद्धव मुझसे मिलने आए थे। मैंने कई अन्य लोगों के साथ अच्छे रिश्ते बनाए हुए हैं। यहां तक की भाजपा में भी, मेरे कुछ के साथ अच्छे संबंध हैं, लेकिन सबके साथ अच्छे संबंध नहीं हैं।

पुलिस भर्ती को प्रभावित करने वालों की जब्त कर ली जाएगी संपत्ति: योगी

जब उन्होंने यह कहा कि ’सबके साथ अच्छे संबंध नहीं हैं’ तो कॉन्क्लेव में मौजूद सभी लोगों ने जोरदार ठहाका लगाया। उन्होंने अप्रत्यक्ष रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के संदर्भ में संभवत: ऐसा कहा था। अगले आम चुनाव में विपक्षी दलों के साथ आने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के खिलाफ कोई निजी एजेंडा नहीं है। जब भी लोग समस्याओं का सामना करते हैं, यह हमारा कर्तव्य है कि हम आवाज उठाएं। मैं सामूहिक नेतृत्व में विश्वास करती हूं। वर्तमान में, सभी (विपक्षी) साथ काम कर रहे हैं और यह सर्वोत्तम नीति है। हमें एकसाथ मिलकर काम करना चाहिए।

मीनाक्षी अग्रवाल के समर्थकों ने डोर-टू-डोर किया जनसम्पर्क

सामूहिक नेतृत्व के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि बंगाल में, कांग्रेस और वामपंथी दल भाजपा के साथ मिलकर काम कर रहे हैं। लेकिन, राष्ट्रीय स्तर पर, हम महसूस करते हैं कि हमें साथ लडऩा मिलकर लडऩा चाहिए। हमलोग दूसरी पार्टियों के साथ भी काम कर रहे हैं। धर्मनिरपेक्ष चैंपियन के रूप में देखे जाने के बावजूद शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे के साथ उनकी बैठक पर प्रश्न पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि पहले, मैं किसी से भी धर्मनिरपेक्षता पर सर्टिफिकेट नहीं लेना चाहती हूं क्योंकि यह मेरी जिंदगी है और इसे में अपने हिसाब से जी रही हूं। मैं उनकी आभारी हूं क्योंकि नोटबंदी के बाद जब हम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी से मिलने गए थे तो वह हमारे साथ थे

वास्को डिगामा एक्सप्रेस के 13 डिब्बे पटरी से उतरे, तीन की मौत

उन्होंने कहा कि उन लोगों ने (शिवसेना ने) नोटबंदी का विरोध किया था। हम उसे भूल नहीं सकते। इसलिए हम उनके साथ कार्य संबंध (वर्किंग रिलेशनशिप) बनाए हुए हैं। अगर समान मुद्दा है, तो निश्चित ही हम साथ काम करेंगे। बनर्जी ने नोटबंदी और जीएसटी को मोदी सरकार की सबसे बड़ी भूल बताया। राहुल गांधी के कांग्रेस पार्टी अध्यक्ष चुने जाने की प्रकिया शुरू होने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि यह कांग्रेस का आंतरिक मामला है और मैं सोनिया गांधी और दिवंगत राजीव गांधी का काफी सम्मान करती हूं। राहुल गांधी के साथ काम करने के बारे में बार-बार पूछे जाने पर उन्होंने पलटकर कहा कि उन्हें काम करने दीजिए। आप मेरे विचार जानने के लिए मुझ पर दबाव नहीं बना सकते। बंगाल तक सीमित रहने के सवाल पर उन्होंने कहा कि तृणमूल कांग्रेस पंजाब, उत्तर प्रदेश, ओडिशा और झारखंड में इकाई की वजह से राष्ट्रीय पार्टी मानी जाती है।

निकाय चुनाव: जनता ने कहा, वादे नहीं इरादे वाला हो जनप्रतिनिधि

उन्होंने कहा कि बंगाल मेरी मातृभूमि है। हम सभी भारत को प्यार करते हैं। बंगाल मेरी शुरुआत है, मेरा अंत है। लेकिन, इसका मतलब यह कतई नहीं है कि हम राष्ट्रीय स्तर पर काम नहीं कर सकते। मैं 23 वर्षो से सांसद हूं। मैंने केंद्र में रेल और खेल मंत्रालय संभाला है। क्षेत्रीय राजनीति के बिना, कोई राष्ट्रीय राजनीति नहीं है। प्रधानमंत्री बनने की उनकी महत्वाकांक्षा के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि मुझे एक कम महत्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में आगे बढऩे दीजिए। लेकिन, बाद में उन्होंने कहा, बंगाल देश का नेतृत्व करेगा। यह पूछे जाने पर कि ’बंगाल या बंगाली’, उन्होंने कहा कि बंगाल देश की अगुवाई करेगा।

पश्चिम बंगाल में भाजपा द्वारा अपनी पहुंच बनाए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि बिलकुल भी ऐसा नहीं है। उन लोगों को उनके पार्टी के मामलो की चिंता करने दीजिए। मुझे नहीं लगता वे लोग बंगाल में अपना असर छोड़ पाएंगे। हमलोग 99 प्रतिशत हैं। वे लोग 1 प्रतिशत हैं। वे लोग सोचते हैं कि वे बांट कर शासन कर सकते हैं। लेकिन, यह स्वामी विवेकानंद, रविन्द्रनाथ टैगोर और नेताजी सुभाष चंद्र बोस की भूमि है। लोग उन्हें (भाजपा को) कभी स्वीकार नहीं करेंगे।

अगर आप आत्मविश्वास या सेक्सी महसूस करना चाहते हैं तो करें इस ड्रिंक का सेवन


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *