मुझे मत मारो, मैं भी इंसान हूं... लेकिन भीड़ ने एक भी न सुनी

मुझे मत मारो, मैं भी इंसान हूं… लेकिन भीड़ ने एक भी न सुनी



मुझे मत मारो, मैं भी इंसान हूं... लेकिन भीड़ ने एक भी न सुनी
मुझे मत मारो, मैं भी इंसान हूं… लेकिन भीड़ ने एक भी न सुनी

जयपुर/सीतामढ़ी। देश में आए दिन इंसान भीड़ का शिकार हो रहा है। कभी गोमांस को लेकर तो कभी लोगों (भीड़) की गलतफहमी के चलते लोगों को अपनी इंसान गंवानी पड़ रही है। ताजा मामला बिहार और राजस्थान में देखने को मिला, जहां भीड़ ने सिर्फ गलत फहमी के चलते दो लोगों की जान ले ली। बताया जा रहा है कि युवक चिल्लाता रहा कि मुझे मत मारो मैं भी इंसान हूं… लेकिन भीड़ ने एक भी न सुनी।

यह भी पढ़ें :- वर्षों से बंद पड़ा सहसपुर उप स्वास्थ्य केंद्र

उत्तर प्रदेश के कानुपर निवासी युवक राजस्थान के जयपुर में एक फैक्टरी में काम करता था। दरअसल मृतक तीन फरवरी को अपने दोस्त की बेटी को कुछ सामान दिलाने के लिए अपने साथ ले गया था, लेकिन लोगों को लगा कि वो बच्ची से छेडख़ानी कर रहा है, जिसके बाद लोगों ने उसे पकड़ कर बिजली के खंभे से बांध दिया और जमकर पिटाई की। बताया जा रहा है कि पिटाई के दौरान युवक चिल्लाता रहा कि मुझे मत मारो मैं भी इंसान हूं… लेकिन भीड़ ने एक भी न सुनी। पिटाई से घायल युवक को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां बुधवार को उसकी मौत हो गई।

वहीं, बिहार सीतामढ़ी के बथनाहा थाना के नरहा गांव में खेत से फूलगोभी चुरा रहे एक शख्स की स्थानीय ग्रामीणों ने बड़ी बेरहमी से पिटाई की। इस घटना की सूचना जब पुलिस को मिली तब पुलिस गंभीर रूप से घायल व्यक्ति को इलाज के लिए सीतामढ़ी सदर अस्पताल लाई जहां इलाज के दौरान उसकी मौत हो गयी। मृतक के परिवारवालों का कहना था कि दुलार राय नरहा गांव में महावीरी झंडे के कार्यक्रम में गए थे और लौटने के दौरान खेत में शौच करने बैठे थे कि चोर-चोर का हल्ला कर ग्रामीणों ने पिटाई कर दी।

यह भी पढ़ें :- फ्लाइट में अंडरवियर सुखाने लडक़ी ने किया ऐसा जुगाड़, वायरल हुआ वीडियो


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *