अबू धाबी में प्रधानमंत्री मोदी ने मंदिर का शिलान्यास किया: बोले, मंदिर मानवता का माध्यम

अबू धाबी में प्रधानमंत्री मोदी ने मंदिर का शिलान्यास किया: बोले, मंदिर मानवता का माध्यम



अबू धाबी में प्रधानमंत्री मोदी ने मंदिर का शिलान्यास किया
अबू धाबी में प्रधानमंत्री मोदी ने मंदिर का शिलान्यास किया

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ओपेरा हाउस से कॉन्फ्रेंस के जरिए मंदिर का शिलान्यास किया। इसके बाद उन्होंने कहा कि विश्व वसुधैव कुटुंबकम को अनुभव करने का एक मौका देता है। मंदिर मानवता का एक माध्यम है। मोदी ने कहा कि विश्व स्तर के सम्मेलन में भारत का सम्मान सौभाग्य की बात है। यूएई में छोटा भारत बसता है। पीएम मोदी इसके बाद यहां से ओमान जाएंगे और वहां भी भारतीय समुदाय को संबोधित करेंगे।

यह भी पढ़ें :- सुंजवान आर्मी कैम्प हमला: सेना के पांच जवान शहीद, चार आतंकी ढेर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारतीय समुदाय के लोगों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कारोबार के माहौल की रैंकिंग में जबरदस्त सुधार हुआ है। हम यहीं नहीं रुकेंगे स्थिति को और सुधारना है। श्रेयस्कर कामों पर कदम उठाएंगे तो वह आने वाले समय में अपने आप प्रिय लगेंगे। मोदी ने कहा कि हर किसी को साथ लेकर ऊंचाइयों को हासिल करना है। मोदी ने कहा कि सत्तर साल पुरानी व्यवस्था को बदलने में वक्त तो लगता ही है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत से निराशा और आशंका का दौर अब खत्म हुआ। चार साल के अंदर देश की सोच पूरी तरह से बदल गई है। अब लोग वहां पर ये नहीं पूछते हैं कि ये काम कैसे होगा?

भारत-यूएई के बीच पांच समझौतों पर मुहर

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अबूधाबी के शहजादे मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान से मुलाकात कर कई विषयों पर बातचीत की और इस दौरान दोनों देशों के बीच पांच समझौतों पर हस्ताक्षर हुए। भारतीय दूतावास से जारी एक बयान में कहा गया कि इंडियन कंसोर्टियम (ओवीएल, बीपीआरएल और आईओसीएल) तथा अबूधाबी नेशलन ऑयल कंपनी (एडीएनओसी) के बीच समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। इसके तहत भारतीय कंपनियों के समूह को अबूधाबी के अपतटीय लोअर जाकुम सुविधा तेल क्षेत्र में 10 फीसदी हिस्सेदारी मिलेगी। यह सुविधा उसे 40 साल यानी 2018 से 2057 तक के लिए मिलेगी। इसमें कहा गया कि यह यूएई के अपस्ट्रीम ऑयल सेक्टर में पहला भारतीय निवेश है। इसके अलावा श्रमशक्ति, रेलवे तथा आर्थिक क्षेत्र में दोनों देशों के बीच समझौते किए गए।

अबु धाबी के पहले मंदिर का शिलान्यास

यूएई में भारत के राजदूत नवदीप सिंह सूरी ने कहा कि अबू धाबी में प्रथम हिंदू मंदिर 55 हजार वर्गमीटर भूमि पर बनेगा। इस मंदिर का निर्माण भारतीय शिल्पकार कर रहे हैं। यह साल 2020 में पूरा होगा। बोचासनवासी श्री अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्था (बीएपीएस) के प्रवक्ता ने बताया कि पश्चिम एशिया में पत्थरों से बना यह प्रथम हिंदू मंदिर होगा।

गर्मजोशी से किया स्वागत

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रविवार को वॉर अबु धाबी के वॉर मेमोरियल वहात-अल-करमा पहुंचकर वहां पर यूएई के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि दी। प्रधानमंत्री मोदी अपनी यात्रा के दूसरे दिन जॉर्डन होते हुए तीन देशों की यात्रा में अबु धाबी पहुंचे। वहां के हवाई अड्डे पर मोहम्मद बिन ज़ायद और राजशाही परिवार के अन्य लोग उनके सम्मान में वहां पर मौजूद थे। मोदी ने हवाई अड्डे पर स्वागत के लिए शहजादे का शुक्रिया अदा किया और कहा कि उनकी यात्रा का भारत संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) संबंध पर सकारात्मक असर पड़ेगा। वहीं यूएई सैन्य बल के उप शीर्ष कमांडर मोहम्मद बिन जायद ने ट्वीट किया कि हम अपने देश के अतिथि और मूल्यवान मित्र भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का यूएई में गर्मजोशी से स्वागत करते हैं।

यह भी पढ़ें :- प्रदेश में गन्ने की खेती से जुड़े युवा बनेंगे उद्यमी

बता दें कि नरेंद्र मोदी के प्रधानमंत्री बनने के बाद यूएई की उनकी यह दूसरी यात्रा है। मोदी अगस्त 2015 में पहली बार यूएई की यात्रा पर गए थे। मोदी पहले ऐसे विदेशी नेता हैं, जिसे अबूधाबी के शहजादे ने शाही महल में आमंत्रित किया। शहजादे ने यूएई के एक आधुनिक देश के निर्माण में भारतीय श्रमिकों के योगदान की भी सराहना की।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *