अब ‘चाय’ पर नहीं ‘लंच’ पर होगी चर्चा

अब ‘चाय’ पर नहीं ‘लंच’ पर होगी चर्चा



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn
अब ‘चाय’ पर नहीं ‘लंच’ पर होगी चर्चा
अब ‘चाय’ पर नहीं ‘लंच’ पर होगी चर्चा

नई दिल्ली। पिछले लोकसभा चुनाव के दौरान ‘चाय पे चर्चा’ अभियान के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को अपनी पार्टी के सांसदों को संघीय बजट 2018-19 के फायदे जनता को बताने के लिए ‘लंच पे चर्चा’ करने के लिए कहा। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की संसदीय दल की बैठक के दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने यह सुझाव दिया। पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के व्यवहार को अलोकतांत्रिक बताते हुए सांसदों को राफेल लड़ाकू विमान सौदे पर उनकी आलोचना का सामना करने के सुझाव दिए। अब ‘चाय’ पर नहीं ‘लंच’ पर होगी चर्चा …

यह भी पढ़ें :- स्वास्थ्य सूचकांक में यूपी सबसे पीछे, केरल सबसे ऊपर

बैठक में मौजूद रहे सूत्रों ने बताया कि प्रधानमंत्री ने आम बजट को मध्यम वर्ग और किसानों के लिए सकारात्मक बताया और इसके फायदों की जानकारी जनता को बताने के लिए कहा। अमित शाह की बात को बीच में काटते हुए मोदी ने कहा कि उन्होंने अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में किस तरह अपना टिफिन लेकर दोपहर के भोजन (लंच) पर पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ विचार-विमर्श करते थे। सूत्रों के अनुसार, मोदी ने सासंदों से उनके संसदीय क्षेत्र की प्रत्येक विधानसभा में अपनी टिफिन लेकर ‘लंच पे चर्चा’ करने के लिए कहा। बैठक में दावोस में ‘विश्व आर्थिक मंच’ में प्रधानमंत्री के भाषण और विभिन्न मंचों पर शाह के भाषणों वाली दो लघु पुस्तकें सांसदों में वितरित की गईं।

यह भी पढ़ें :- मोदी के तीन देशों के दौरे के एजेंडे में ऊर्जा, सुरक्षा, व्यापार

‘अनबीटबल ग्लोबल लीजेंड’ नामक किताब में दावोस में मोदी के भाषण पर 25 वैश्विक अखबारों में प्रकाशित लेखों को संकलित किया गया है। सूत्रों के अनुसार इन किताबों को पार्टी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने तैयार किया है। शाह ने अपने भाषण में कांग्रेस और उसके अध्यक्ष की लोकसभा में राफेल सौदे पर सवाल उठाने और राष्ट्रपति के संबोधन पर चर्चा के दौरान प्रधानमंत्री के संबोधन के समय अव्यवस्था फैलाने के लिए आलोचना की। अनंत कुमार ने शाह के हवाले से बताया, राहुलजी का राजनीति करने का तरीका अलोकतांत्रित है। इसलिए लोकसभा में प्रधानमंत्री के भाषण के दौरान अव्यवस्था हो गई थी। शाह के भाषण को समझाते हुए कुमार ने कहा कि राष्ट्रपति ने राफेल सौदे के प्रमुख बिंदु बता दिए और सौदे के प्रत्येक तत्व को न्यायोचित बताया। उन्होंने सांसदों से राफेल सौदे पर विपक्ष के हमलों का सामना करने के लिए कहा।

यह भी पढ़ें :– जासूसी मामले में वायुसेना अधिकारी गिरफ्तार

सूत्रों ने शाह के हवाले से बताया कि कांग्रेस में यह राहुल की संस्कृति है। वित्तमंत्री इस मुद्दे पर विस्तार से बता चुके हैं। राष्ट्रीय सुरक्षा और देश के भले को देखते हुए हर बात का खुलासा नहीं किया जा सकता। सूत्रों के अनुसार, एक पार्टी सांसद ने राजस्थान उपचुनाव में पार्टी की हार के लिए किसानों के मुद्दे को जिम्मेदार बताया। शाह ने उनसे कहा कि अब राजस्थान की हार नहीं 2019 में जीत के लिए सोचें। उन्होंने सांसदों से जनता के बीच किसानों और मध्यमवर्ग के लिए आम बजट के फायदे बताने के लिए कहा। मोदी 2017 में जब वाराणसी में रैली को संबोधित करने लिए गए थे तो बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं के साथ उन्होंने लंच पर बात करने अपना टिफिन ले गए थे।

यह भी पढ़ें :- जमींनी रंजिश में किशोर की हत्या, पांच लोगों के खिलाफ मुकदमा


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *