कासगंज हिंसा: चंदन के पिता ने रखीं ये तीन मांगें

कासगंज हिंसा: चंदन के पिता ने रखीं ये तीन मांगें

डीएम के काफी मान मनौव्वल के बाद चंदन के परिवार ने स्वीकारा 20 लाख का चेक


डीएम के काफी मान मनौव्वल के बाद चंदन के परिवार ने स्वीकारा 20 लाख का चेक

कासगंज। प्रदेश के कासगंज में तिरंगा यात्रा के दौरान हिंसा में चंदन गुप्ता की मौत के बाद सोमवार को भी छिटपुट घटनाओं का दौर जारी रहा। वहीं, मुख्यमंत्री के निर्देश पर चंदन गुप्ता के परिवार को आर्थिक मदद के रूप में 20 लाख का चेक देने पहुंच डीएम आरपी ङ्क्षसह को काफी विरोध का सामना करना पड़ा। पहले तो चंदन के परिजनों ने चेक लेने से मना कर दिया, लेकिन डीएम, विधायक और स्थानीय लोगों के मान मनौव्वल के बाद परिजनों ने स्वीकार कर लिया।

चेक नहीं चंदन चाहिए

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश पर डीएम आरपी सिंह व अमापुर के विधायक देवेंद्र सिंह सोमवार को 20 लाख रुपए का चेक देने मृतक चंदन के घर पहुंचे। जहां उन्हें लोगों के रोष का सामना करना पड़ा। यहीं नहीं, पीडि़त परिवार ने डीएम से चेक लेने से इंकार कर किया। सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी के बीच इलाके के लोगों ने कहा कि उन्हें चेक नहीं चंदन चाहिए।

मांगे न माने जाने पर दी आत्मदाह की धमकी

वहीं, परिजनों ने मुख्यमंत्री को बुलाने की मांग की। काफी मान-मनौव्वल के बाद परिजनों ने चेक स्वीकारा, लेकिन साथ ही बेटे को शहीद का दर्जा दिया जाए और कासगंज में चंदन चौक बनाने की मांग की। इसके अलावा परिजनों ने मुख्यमंत्री को बुलाने की मांग दोहराई। चंदन के पिता ने तीनों मांगें न माने जाने पर अनशन और आत्मदाह की घोषणा की है। उधर, अमापुर विधायक ने उन्हें शहीद का दर्जा दिलाने के लिए प्रावधान के तहत प्रयास करने का आश्वासन दिया है।

तिरंगा यात्रा में हिंसा के दौरान हुई थी मौत

बता दें कि कासगंज में 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के मौके पर तिरंगा यात्रा के दौरान हुए दो पक्षों के बीच खूनी संघर्ष में चंदन गुप्ता की मौत हो गई थी। हिंसक झड़प की आग पूरे शहर में फैल गई, जिसके बाद बीते चार दिन से कासगंज में तनाव बना हुआ है। सोमवार को भी छिटपुट घटनाओं का दौर जारी रहा। पुलिस ने सब्जी खरीद रहे लोगों को पीटने का मामला भी सामने आया।

चंदन का हत्यारोपी अभी फरार

हालांकि चंदन की हत्या का आरोपी शकील अभी भी फरार है, जबकि उसके घर से तलाशी के दौरान पुलिस ने देशी बम और पिस्टल बरामद की है। पुलिस लगातार सघन तलाशी अभियान चलाकर दोषियों को पकडऩे की कोशिश में जुटी हुई है। वहीं, इस हिंसा के पीछे साजिश के अंदेशे ने अफसरों की नींद उड़ा दी है।

अब तक 112 लोग गिरफ्तार

कासगंज हिंसा के मामले में रविवार तक पुलिस पांच मुकदमे दर्ज कर कुल 112 लोगों को गिरफ्तार कर चुकी है। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए कासगंज शहर में धारा 144 सीआरपीसी लागू है।

स्थानीय नेताओं पर संरक्षण का आरोप

वहीं, चंदन के हत्यारोपियों को स्थानीय नेताओं द्वारा संरक्षण दिए जाने की बात भी सामने आई है। हिंसा फ़ैलाने वालों पर रासुका लगाने की तैयारी हो रही है।

हिंसा की जांच के लिए एसआईटी गठित

कासगंज साम्प्रदायिक हिंसा को लेकर प्रदेश के अपर पुलिस महानिदेशक कानून व्यवस्था आनंद कुमार ने कहा कि हिंसा सुनियोजित थी या नहीं, इसकी जांच की जा रही है। हिंसा की जांच के लिए एसआईटी बनाई गई है।

-आईएएनएस


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *