कासगंज में हिंसा से इन तीन परिवारों पर टूटा आफत का पहाड़

कासगंज में हिंसा से इन तीन परिवारों पर टूटा आफत का पहाड़



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

कासगंज। प्रदेश के कासगंज में भडक़ी हिंसा की वजह से तीन परिवारों पर आफत का पहाड़ टूट पड़ा है। इनमें से एक परिवार ने अपना 22 साल का बेटा खोया है, जबकि दो परिवारों के लोग स्थानीय अस्पतालों में अपनों के जख्म ठीक होने का इंतजार कर रहे हैं।

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) और विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने तिरंगा बाइक रैली निकाली थी, इस दौरान दो पक्षों में संघर्ष हो गया था। जिससे चंदन गुप्ता नाम के युवक की गोली लगने से मौत हो गई थी। बताया जा रहा है कि एक स्थानीय कॉलेज से कॉमर्स की पढ़ाई करने वाला चंदन गुप्ता एक स्थानीय गैर लाभकारी संस्था से जुड़ा था। उसके माता-पिता का कहना है कि वह कंबल बांटने और रक्दान जैसी मुहिमों में हिस्सा लिया करता था। अब चंदन का परिवार कासगंज में धरने पर बैठा है और जल्द से जल्द न्याय की मांग कर रहा है।

यह भी पढ़ें :-  विहिप निकालेगी चौरासी कोसी परिक्रमा, तैयारियां तेज

वहीं, नौशाद नाम का एक मजदूर, जो अपने काम से घर लौट रहा था, वह भी गोलीबारी की चपेट में आ गया। उसके पैर में एक गोली लगी। एक स्थानीय अस्पताल में भर्ती नौशाद ने बताया कि मैं उस वक्त कुछ नहीं कर सका। जब तक मैं जान पाता, मुझे मेरे पैर में तेज दर्द महसूस हुआ।

लखीमपुर खीरी निवासी मोहम्मद अकरम अपनी कार से कासगंज शहर से होते हुए अपनी गर्भवती पत्नी से मिलने अलीगढ़ जा रहे थे, जिनका जल्द ही ऑपरेशन होने वाला था। तभी भीड़ ने उनकी कार पर हमला कर दिया, उन्हें कार से खींच लिया और उनकी आंख निकालने की कोशिश की। किसी तरह वह वहां से बचकर निकले। अलीगढ़ के अस्पताल में उनकी आंख का ऑपरेशन हुआ है और वो फिलहाल वहीं भर्ती हैं। अकरम ने कहा कि मैंने कभी कल्पना भी नहीं की थी, ऐसा कुछ हो सकता है। उन्होंने कहा कि उन्होंने भीड़ को अंधेरे में देखा, उन्हें लगा कि वो पुलिसवाले हैं। जल्द ही वह भीड़ मुझ पर टूट पड़ी। मैंने हाथ जोडक़र उनसे विनती की, लेकिन उन लोगों ने मुझे प्रताडि़त किया। मुझे पीटने और मेरी कार में आग लगा देने की धमकी देने के बाद उन्होंने मुझे जाने दिया। मुझे लगता है कि उनमें से कुछ में थोड़ी समझदारी बची थी।

यह भी पढ़ें :-  योगी सरकार ने 10 महीनों में किसान हित में उठाए 10 महत्वपूर्ण कदम


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *