जाधव कभी बलूचिस्तान नहीं आए, आईएसआई ने करोड़ों रुपये देकर किडनैप कराया

जाधव कभी बलूचिस्तान नहीं आए, आईएसआई ने करोड़ों रुपये देकर किडनैप कराया



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

नई दिल्ली। जासूसी के आरोप में पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को लेकर एक ऐसा खुलासा हुआ है। दरअसल, बलूचिस्तान के सामाजिक कार्यकर्ता मामा कादिर बलोच ने कहा कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी ने जाधव का ईरान से अपहरण करवाया था, इसके लिए जैश-उल-अदल के आंतकी मुल्ला उमर को करोड़ों रुपए दिए गए थे।

यह भी पढ़ें :-  हरियाणवी गायिका ममता शर्मा की गला रेतकर हत्या

वॉइस ऑफ मिसिंग बलोच संस्था के वाइस प्रेसिडेंट मामा कादिर बलोच गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। कादिर बलोच ने कहा कि पाकिस्तान ने जाधव को बलूचिस्तान से नहीं गिरफ्तार किया है। बल्कि ईरान के चाबहार से जाधव को किडनैप कराया गया था। उन्होंने कहा कि जाधव का अपहरण कराने के लिए पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई ने आतंकी मुल्ला उमर को पैसे दिए थे। कादिर बलोच ने कहा कि आतंकियों ने जाधव के हाथ पैर बांधकर ईरान-बलूचिस्तान बॉर्डर पर लाया गया, इसके बाद आईएसआई ने उसे अपने कब्जे में लिया। बलोच ने कहा कि यह कोई नया अपहरण केस नहीं है, आईएसआई का पुराना हथकंडा है। बलोच ने कहा कि कुछ इसी तरह उनके बेटों का भी अपहरण किया गया था। कादिर बलोच ने दावा किया है कि मेरे पास कई सबूत और गवाह हैं जो यह साबित कर सकते हैं कि पाकिस्तानी सेना और आईएसआई लोगों के अपहरण के लिए आतंकी संगठनों का इस्तेमाल करते हैं।

यह भी पढ़ें :-  ए राजा ने मनमोहन सिंह और चिदम्बरम की चुप्पी पर उठाए सवाल

बता दें कि पाकिस्तान का दावा है कि भारतीय नौसेना के कमांडर जाधव भारत की प्रमुख खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनलिसिस विंग (रॉ) के लिए काम कर रहे थे। तीन मार्च 2016 को बलूचिस्तान में कानून प्रवर्तन एजेंसियों ने उनको अवैध रूप से पाकिस्तान में पकड़ लिया गया था। हालांकि भारत का कहना है कि जाधव एक पूर्व नौसेना अधिकारी हैं और वो रॉ के लिए काम नहीं कर रहे थे।

यह भी पढ़ें :-  मोदी, सुषमा ने डोकलाम पर राष्ट्र को गुमराह किया: कांग्रेस


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *