शनि संकट मोचन मंदिर पर अप्रवासी भारतीयों ने आप्लावित की आस्था

शनि संकट मोचन मंदिर पर अप्रवासी भारतीयों ने आप्लावित की आस्था



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

अयोध्या। सुदूर विदेशों से हजारों मील दूर से आए अप्रवासी भारतीयों ने अयोध्यानगरी के रामघाट मोहल्ले में स्थित श्री शनि संकट मोचन मंदिर पर भगवान भोले शंकर का रूद्राभिषेक कर अपनी आस्था आप्लावित की। इससे अभिभूत विदेशी भक्त पूरी तरह से धार्मिकता में रमे रहे। प्रात:काल वैदिक विद्वानों के कुशल मार्ग -दर्शन में यह अनुष्ठान सम्पन्न कराया गया।

रामनगरी के रामबाग-रामघाट क्षेत्र में पंडित लल्लन तिवारी के आयोजन में चल रहे नवनिर्मित श्री शनि संकट मोचन मंदिर के उद्घाटन महोत्सव के अवसर पर सात दिवसीय धार्मिक अनुष्ठान की कल 19 जनवरी को विशाल भंडारे के साथ पूर्णाहुति होगी, जिसमें बड़ी संख्या में सन्त-महन्त व भक्तगण उपस्थित रहेंगे। रामबाग मोहल्ले में स्थित श्री संकट मोचन मन्दिर परिसर में हो रहे श्रीराम महायज्ञ में अप्रवासी भारतीय जनों ने पूरी तन्मयता और श्रद्धा के साथ आहुतियां डालकर प्रभु श्रीराम का गुणगान किया। साथ ही साथ पूरी भक्ति से अमृतमयी श्रीरामकथा का रसास्वादन कर अपना जीवन धन्य बनाया। इस मौके पर कार्यक्रम के आयोजक पण्डित लल्लन तिवारी ने बताया कि विगत 13 जनवरी से श्री संकट मोचन मन्दिर का प्राण-प्रतिष्ठा समारोह चल रहा है और समापन 19 जनवरी को होगा।

वैदिक मंत्रोच्चार के साथ प्राण-प्रतिष्ठा समारोह सकुशल संपन्न हो गया है। इस मन्दिर में राम-सीता, लक्ष्मण, भोले बाबा, बजरंगबली, शनि भगवान और नवग्रह देवता की मूर्तियां स्थापित की गई हैं। यह सब देवता इस श्रृष्टि पर विद्यमान सभी लोगों का कल्याण करते हैं। इस अवसर पर मुख्य रूप से न्यूजीलैंड से सुनीता देवी चन्द व आस्ट्रेलिया से राजकुमारी शर्मा, पंडित दवेन्द्र शर्मा, भरत शर्मा, सत्यावती महाराज, हितेन कुमार चन्द्रा, उमा देवी नारायन, प्रियंका अलवीना नारायन, ज्ञान अरून रानीगा, दिप्ती बेन रानीगा, यश दीप आदि अप्रवासी भारतीय उपस्थित रहे।

यह भी पढ़ें :-  अग्नि-वी मिसाइल का सफल परीक्षण


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *