पुलिस भर्ती परिणाम को लेकर अभ्यर्थियों ने लखनऊ में डाला डेरा, प्रदर्शन

पुलिस भर्ती परिणाम को लेकर अभ्यर्थियों ने लखनऊ में डाला डेरा, प्रदर्शन



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

लखनऊ। प्रदेश में योगी सरकार द्वारा लगभग करीब 42 हजार सिपाहियों की भर्ती के लिए विज्ञापन जारी करते हुए भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी है। वहीं, दूसरी ओर पुलिस भर्ती की पुरानी भर्तियों पर अब तक कोई फैसला नहीं आया है। इससे से निराश अभ्यर्थियों ने बुधवार को राजधानी लखनऊ में जोरदार प्रदर्शन किया और सरकार पर लापरवाही बरतने के आरोप लगाए।

यह भी पढ़ें :-  48 हजार शिक्षकों का होगा स्थानांतरण, तैयारी शुरू

चारबाग में डटे अभ्यार्थियों का कहना है कि जब तक प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी की तरफ से उन्हें कोई आश्वासन नहीं मिल जाता वो यहां से नहीं हटेंगे। उधर लक्ष्मण मेला मैदान (धरना स्थल) में धरना दे रहे तीन पुलिस अभ्यार्थियों ने सरकार की अनदेखी से आहत होकर गोमती नदी में छंलाग लगा दी, जिन्हें साथी अभ्यार्थियों ने काफी मशक्कत के बाद बाहर निकाला।

यह भी पढ़ें :-  मातृशक्ति फाउंडेशन ने गरीब, असहायों को बांटे कपड़े

बता दें कि 29 दिसंबर 2015 में उत्तर प्रदेश पुलिस भर्ती व प्रोन्नति बोर्ड द्वारा 34716 पदों के लिए सिपाहियों की भर्ती निकाली गई थी। जिसके तहत 28916 पुरुष व 5800 महिला पुलिस आरक्षी एवं आरक्षी पीएसी के पदों पर भर्ती होनी थी। भर्ती प्रक्रिया चल रही थी लेकिन बाद में इसके खिलाफ इलाहाबाद हाइकोर्ट में याचिका दायर की गई थी। जिस पर फैसला लेते हुए कोर्ट ने 27 मई 2016 को भर्ती प्रक्रिया के अंतिम परिणाम पर रोक लगा दी थी। वहीं, प्रदर्शन कर रहे अभ्यर्थियों की मांग है कि योगी सरकार नई भर्ती शुरू करने से पहले पुरानी भर्ती के परिणाम घोषित करें।

यह भी पढ़ें :-  रामनगरी के मठ-मंदिरों से निकले पुष्पों से अब बनेगा इत्र

अभ्यर्थियों का कहना है कि प्रमुख सचिव गृह से मुलाकात में उन्हें आश्वासन दिया गया था कि जब तक इन भर्तियों पर कोई फैसला नहीं हो जाता आगे कोई भर्ती विज्ञापन जारी नहीं किया जाएगा, लेकिन भर्ती बोर्ड ने 42 हजार सिपाही भर्ती के लिए 14 जनवरी 2018 को विज्ञापन जारी कर दिया। उन्होंने सरकार पर मामले में लापरवाही बरतने का आरोप लगाया। अभ्यर्थियों की मांग है कि पहले 34,716 सिपाहियों की भर्ती पर कोई फैसला लिया जाए। इसके बाद आगे की भर्ती की जाएं। भारी संख्या में चारबाग में डेरा डाले अभ्यर्थियों का कहना है कि युवाओं की बात करने वाले योगी-मोदी को इस पर फैसला करना चाहिए, जिससे हमें रोजगार मिल सके। उधर पुरानी भर्ती के परिणाम घोषित करने की मांग करे लेकर लक्ष्मण मेला मैदान (धरना स्थल) के पास धरना दे रहे 3 पुलिस अभ्यार्थियो ने गोमतीं नदी में छलांग लगा दी। जिन्हें साथी पुलिस अभ्यार्थियों ने बचाया।

योगी सरकार की बहुत बड़ी संवेदनहीनता : कांग्रेस

वहीं, अभ्यार्थियों के प्रदर्शन पर सहानभूति दर्शाते हुए कांग्रेस प्रवक्ता सुरेंद्र राजपूत ने कहा कि ये सरकार की बहुत बड़ी संवेदनहीनता है। सरकार को स्पष्ट करना चाहिए कि नई भर्तियों और पुरानी भर्तियों का कैसे समायोजन करेगी, क्योंकि अब जो लोग शामिल होंगे, उनकी उम्र पुरानी अभ्यर्थियों से कम होगी। ऐसे में क्या पुराने अभ्यर्थियों को मौका मिल पाएगा। सरकार को चाहिए कि वह अपनी स्थिति स्पष्ट करे। सरकार को विपक्ष के साथ भी बैठकर मसले का हल निकालने की कोशिश करनी चाहिए।

पुरानी भर्ती का नई भती से लेना-देना नहीं : सरकार

उधर पुलिस अभ्यर्थियों के राजधानी लखनऊ में चल रहे प्रदर्शन के बीच योबी सरकार के प्रवक्ता और स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने स्पष्ट कहा है कि हमने जो वैकेन्सी निकाली है वो अलग है। पुरानी भर्ती का इन वैकेंसी से कोई लेना-देना नहीं है। उन्होंने कहा  कि पुरानी भर्ती का मामला कोर्ट में चल रहा है, जो कोर्ट आदेश करेगा पुरानी वैकेंसी में वैसा ही किया जाएगा।

यह भी पढ़ें :-  पद्मावत फिल्म पर रोक के लिए प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी को भेजा ज्ञापन


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *