स्कूल जाते समय अपहृत छात्र सकुशल बरामद

स्कूल जाते समय अपहृत छात्र सकुशल बरामद

पूरे जिले में हाई अलर्ट के बाद लिटिल को खेत में छोड़ भागे अपहर्ता, दिनदहाड़े वारदात से दिन भर मचा रहा हडक़म्प


पूरे जिले में हाई अलर्ट के बाद लिटिल को खेत में छोड़ भागे अपहर्ता, दिनदहाड़े वारदात से दिन भर मचा रहा हडक़म्प

 गोला गोकर्णनाथ, खीरी। बेखौफ बदमाशों ने दिनदहाड़े रिक्शा से स्कूल जा रहे कक्षा चार के एक छात्र का रहस्यमय तरीके से अपहरण कर लिया। परिजनों की सूचना पर आनन-फानन में एसपी समेत तमाम आला अधिकारी गोला आ धमके और पूरे जिले को हाईअलर्ट करते हुए सभी मार्गों की नाकाबंदी कर सघन चेंकिग अभियान चलाया गया। लगभग पांच घंटे बाद अपहर्ताओं ने छात्र को एक गन्ने के खेत में बांधकर डाल दिया, जिसे पुलिस ने उसे सकुशल बरामद करके उसके परिजनों को सौंप दिया।

अलीगंज रोड निवासी हार्डवेयर व्यापारी कमलेश कुमार का आठ वर्षीय पुत्र प्रबल उर्फ लिटिल पंजाबी कॉलोनी स्थित सेंट जॉन्स सीनियर सेकेंड्री स्कूल में कक्षा चार का छात्र है। मौनी अमावस्या का सार्वजनिक अवकाश होने के बावजूद खुले विद्यालय में रोजाना की तरह अपने छह सहपाठियों के साथ करीब पौने दस बजे रिक्शे पर विद्यालय जा रहा था।

इस दौरान पीछे से लाल रंग की बाइक पर आए एक व्यक्ति ने यहां गुप्ता कालोनी के निवासी रिक्शाचालक मंगूलाल को रोक लिया और उसे बताया कि लिटिल के पापा उससे बात करना चाहते हैं। उसने मोबाइल पर किसी से लिटिल की बात भी कराई, जिसके बाद वह व्यक्ति लिटिल को अपनी बाइक पर बैठाकर ले गया। इस बीच रिक्शा चालक ने लिटिल के घर फोन करके उसके पहुंचने की बाबत जानकारी हासिल की, लेकिन पता चला कि न तो उसके पापा ने उसे बुलाया और न ही वह घर पहुंचा तो लिटिल के अपहरण की बात आगा की तरह पूरे शहर में फैल गई।

यह भी पढ़ें :-  खीरी: सहकारी ग्राम विकास बैंक के 12 शाखा प्रबंधक समेत 17 कार्मिक निलम्बित

पंजाबी कॉलोनी निवासी पलिया के विधायक रोमी साहनी को पता चला तो उन्होंने फौरन खबर एसपी डॉ. एस. चिनप्पा को दी, जिसके बाद देखते ही देखते एसडीएम योगानंद पांडेय, भारी भरकम फोर्स व एसओजी टीम मौका-ए-वारदात पर आ पहुंची। अपहृत लिटिल के घर से लेकर कोतवाली में सैकड़ों लोग जमा हो गए और जिले को हाई अलर्ट पर लेते हुए अपहृत व अपहर्ता की खोज का अभियान छेड़ दिया गया और लिटिल के बेहाल परिजनों के अलावा लोग तरह तरह की अटकलें लगाते लिटिल की सलामती की दुआएं मांगने लगे। छह घंटे बाद शाम करीब चार बजे लिटिल के सकुशल मिल जाने की खबर पुलिस को मिली।

कहीं रेकी तो नहीं की गई थी

कॉन्वेंट स्कूल के छात्र लिटिल का जिस रोड से दुस्साहसिक ढंग से अपहरण किया गया वह काफी भीड़ भाड़ वाला इलाका है, लेकिन अपहर्ता वारदात को अंजाम देने में कामयाब हो गया, जिससे लगता है कि वह काफी दिनों से लिटिल के स्कूल आने जाने के टाइम की रेकी कर रहा था।  पंजाबी कॉलोनी रोड पर ही नगर पालिका का पिछला गेट, पब्लिक इंटर कॉलेज, सेंट जान्स कॉन्वेंट स्कूल, पलिया के विधायक का निवास व सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र है, जिसके कारण इस रोड पर हर समय भारी भीड़ बनी रहती है। इसके बावजूद रोड पर न तो कहीं सीसीटीवी कैमरे लगे हैं और न ही स्कूल खुलने या छुट्टी के समय बावर्दी पुलिस की कोई मौजूदगी रहती है। इसी कारण अपहर्ता अपने मंसूबे को अंजाम देकर फरार होने में सफल रहा।

 कोतवाली में लगा रहा सियासतबाजों का जमावड़ा

लिटिल के अपहरण की वारदात ने शहर के वाशिंदों को झकझोर कर रख दिया। पता चलते ही उसके घर,कोतवाली और मौका-ए-वारदात पर हजारों लोगों के अलावा तमाम राजनीतिक दलों के लोग भी पहुंच गए। खबर मिलते ही पालिकाध्यक्ष मीनाक्षी अग्रवाल, कांग्रेस नेता प्रहलाद पटेल, भाजपा नेता विजय शुक्ल रिंकू, अजय गिरि, कुर्मि क्षत्रिय समाज कल्याण समिति के अध्यक्ष अशोक कनौजिया, उपाध्यक्ष अरविंद पटेल, सीपी वर्मा, पूर्व विधायक विनय तिवारी, महेश चंद कनौजिया, व्यापार मंडल के नेता कैलाश चंद गुप्ता, बालकृष्ण बल्लू, गोपाल कृष्ण शुक्ल, जितेंद्र गट्टानी सहित तमाम लोग भी पहुंच गए और घटना की मालूमात हासिल करने के साथ ही जल्द खुलासे की मांग की है।

आखिर लिटिल के अपहरण के पीछे अपहरणकर्ता का क्या था मकसद

छात्र के अपहरण के पीछे रंजिश है या फिरौती वसूलने की कोशिश, यह सवाल लोगों के बीच चर्चा का विषय बना हुआ है तो पुलिस भी सारे पहलुओं को ध्यान में रखकर जांच आगे बढ़ा रही है। व्यापारी  कमलेश कुमार वर्मा शहर के जाने माने हार्डवेयर व्यापारी हैं जिनके दो पुत्र बड़ा कुशाग्र तथा छोटा प्रबल उर्फ लिटिल हैं। लेकिन सिर्फ लिटिल कान्वेंट स्कूल आता जाता था। उसका अपहरण क्यों हुआ इसका जवाब जहां पुलिस तलाश रही है वहीं कुछ लोग इसे फिरौती का प्रयास,किसी से रंजिश या व्यासायिक प्रतिद्वंदिता के मामले से भी जोडक़र देख रहे हैं। पुलिस की निगाह इस बात पर भी टिकी हुई है कि अगर फिरौती के इरादे से अपहरण किया गया इससे यह माना जा रहा है कि लिटिल के अपहरण के पीछे कोई रंजिश तो हो ही सकती है उसके अपहरण में कोई न कोई नजदीकी या परिचित जरूर शामिल है और शायद इसी कारण लिटिल बिना हिचकिचाए अपहर्ता बाइक सवार के साथ बैठकर चला गया।

छात्रा शीतल वर्मा ने बरामद कराने में निभाया अहम रोल

छात्रा शीतल वर्मा

सोवरन इंटर कॉलेज में कक्षा 10 में पढऩे वाली ग्राम छत्तीपुर निवासी शीतल वर्मा पुत्री जगेश्वर ने बताया कि जब वह कॉलेज से घर वापस जा रही थी तब उसे सडक के किनारे खडे गन्ने से कराहने की आवाज सुनाई दी तो वह नजदीक गई तो गन्ने में एक बच्चा बंधा हुआ पडा था और मुंह पर टेप लगा था। जिसे बंधन मुक्त कर अपने साथ ले आई और परिजनों के माध्यम से पुलिस को सूचना दी। छात्रा शीतल के द्वारा इस कार्य की लोगों ने सराहना की।

सहमे छात्र ने सुनाई आपबीती

अपहरणकर्ताओं के चंगुल से आजाद होने के बाद डरे सहमे छात्र प्रबल ने आप बीती सुनाते हुए कहा कि जो लोग उसे अपने साथ ले गए थे वह उसके पापा के दोस्त बता रहे थे। उन्होंने कहा कि उसके मामा मामी की तबयित खराब है इसलिए वह उनके साथ मैलानी जा रहा था। संसारपुर पहुंचने से पूर्व रास्ते में अपहरणकर्ता को लघुशंका लगी तो उन्होंने गाड़ी रोककर मुझे गन्ने में बांधकर मुंह में टेप लगा दिया, जिसके बाद मैंने धीरे धीरे करके पैर खोल लिये और कराहने की आवाज सुनकर स्कूल जाने वाली छात्राओं ने उसका बंधन मुक्त कर अपने साथ ले आई और पुलिस को सूचना दी।

कुर्मि क्षत्रिय समाज ने पुलिस प्रशासन को दी बधाई

पुलिस प्रशासन द्वारा व्यापारी पुत्र की सकुशल बरामदगी पर कुर्मि क्षत्रिय समाज कल्याण समिति के पदाधिकारियों ने पुलिस प्रशासन मीडिया व सूचना देने वाली छात्राओं का धन्यवाद ज्ञापित किया है। उन्होंने कहा कि पुलिस अधीक्षक डॉ. एस चिनप्पा ने मामले को गंभीरता से लेते हुए शीघ्र गोला पहुंचे और चार से पांच घंटे के अंदर खुलासा करने का जो काम किया उसके लिए वह और उनका पुलिस बल बधाई के पात्र हैं। इस मौके पर अध्यक्ष पटेल अशोक कनौजिया, उपाध्यक्ष अरविंद पटेल, मंत्री नवनीत कुमार वर्मा, कोषाध्यक्ष संजय सिंह,  ऑडिटर  सी पी वर्मा, संयुक्त मंत्री गोपाल वर्मा, डॉ. विमल वर्मा, कमलेश वर्मा, डॉ. मनोज वर्मा, कमलेश वर्मा, सुनील वर्मा, संतोष  वर्मा, राजीव वर्मा, हरिओम वर्मा, पंकज वर्मा, मनोज  पटेल, सचिन पटेल आदि मौजूद रहे।


अपहर्ता लिटिल को उसके पिता से बात कराने के बहाने उठा ले गया था, जिसकी सूचना मिलने पर पूरे जिले को अलर्ट करते हुए नाकाबंदी कराई गई थी, जिससे घबराकर अपहर्ता उसे एक गन्ने के खेत में छोडक़र भाग गए थे उसे सकुशल बरामद कर परिजनों को सौंप दिया है। साजिश में शामिल लोगों को जल्द ही गिरफ्तार किया जाएगा।

डॉ. एस. चिनप्पा, पुलिस अधीक्षक लखीमपुर खीरी।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *