योगी सरकार भी महोत्सव में लुटा रही सरकारी धन: मायावती

योगी सरकार भी महोत्सव में लुटा रही सरकारी धन: मायावती



लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बीएसपी) प्रमुख एवं पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने पूर्व की सपा और वर्तमान भाजपा की योगी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि प्रदेश के करोड़ों किसान अपनी पैदावार का सही मूल्य नहीं मिल पाने के कारण तंगी, बदहाली व संकट का शिकार हैं। किसान मजबूरी में अपने उत्पाद को विधानसभा के सामने फेंक कर अपना प्रबल विरोध दर्ज करा रहे हैं, लेकिन प्रदेश की योगी सरकार इन समस्याओं पर ध्यान न देकर सपा सरकार की तरह ‘गोरखपुर महोत्सव’ आदि पर सरकारी धन व संसाधन लुटाने में मस्त नजर आ रही है।

यह भी पढ़ें :- इसरो ने 31 उपग्रहों का किया सफल प्रक्षेपण, कार्टोसैट-2 कक्षा में स्थापित

बीएसपी की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने बयान में कहा कि उत्तर प्रदेश में अपार जनसमस्याओं के साथ अपराध-नियंत्रण व कानून-व्यवस्था व विकास का बहुत ही बुरा हाल है, लेकिन केन्द्र की तरह प्रदेश सरकार भी इन मामलों में गंभीर व जिम्मेदार नहीं होकर केवल कोरी बयानबाजी व गैर-जनहित के कार्यों में सरकारी धन, संसाधन व शक्ति का अपव्यय कर रही है। इससे जनता को कुछ भी राहत नहीं मिल पा रहा है बल्कि उनकी समस्यायें लगातार भयावह रूप धारण करती चली जा रही हैं। ऐसे में वे लोग उद्वेलित व आन्दोलित हैं, परन्तु उसके बावजूद भी बीजेपी सरकार उनके प्रति संवेदनशील नहीं होकर अत्याचारी जैसा ही व्यवहार कर रही है, यह अति-निन्दनीय है।

यह भी पढ़ें :- प्रेमी संग विवाह करने पर अड़ी प्रेमिका ने थाने में खाया जहर, भर्ती

मायावती ने कहा कि भाजपा सरकार की इसी प्रकार की गलत व जनविरोधी नीति का ही परिणाम है कि ठण्ड के साथ-साथ जहरीली शराब पीने से लोगों की मौतें हो रही हैं। उन्होंने कहा कि ऐसी गंभीर लापरवाही व विफलताओं के प्रति बीजेपी सरकार की जिम्मेदारी संवेदनशील व जवाबदेह नहीं होकर केवल अनुग्रह राशि व मजिस्ट्रेटी जांच तक ही सीमित है। दलित अत्याचार के विषय पर मायावती ने योगी सरकार पर गंभीर जातिवादी व पक्षपाती रवैया अपनाये जाने का आरोप लगाते हुए कहा है कि ऐसे मामलों में कानूनी कार्रवाई नहीं हो रही है। अनुसूचित जाति आयोग की कार्यप्रणाली पर भी मायावती ने सवाल उठाये।

यह भी पढ़ें :- इस आश्रम में हथियारों के बल पर तीन साध्वियों से दुष्कर्म!


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *