भारत विदेशी शहरीकरण मॉडल नहीं अपनाए: राजीव कुमार

भारत विदेशी शहरीकरण मॉडल नहीं अपनाए: राजीव कुमार



नई दिल्ली। नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने गुरुवार को कहा कि शहरीकरण के लिए विदेशी मॉडल को अपनाने के बदले भारत को पूरे देश में विकास केंद्रों को बनाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि विदेशी मॉडल अपनाने से असमानता और असंतुलन में बढ़ोतरी होगी।  उन्होंने कहा कि भारत की विविधता को देखते हुए, असमान और असंतुलित शहरीकरण सही नहीं है।

यह भी पढ़ें :- ‘राजनीतिज्ञों के मामले की शीघ्र सुनवाई की शुरुआत सर्वोच्च न्यायालय से हो’

नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार गुरुवार को नगर वित्त और स्मार्ट शहरों के लिए प्रभावी और त्वरित कार्यान्वयन’ पर राष्ट्रीय कार्यशाला को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि यह बहुत दुखद है कि हम लगातार विदेशी मॉडल की ओर देखते हैं। हम वह भारत में नहीं दोहरा सकते जिसे चीन ने किया है। उन्होंने कहा कि चीन में विकास केवल तटवर्ती इलाकों में हुआ है, जबकि अन्य क्षेत्र वहां अभी भी पिछड़ा है, जिससे चीनी नव वर्ष पर लाखों की आबादी को अपने घर वापस जाना पड़ता है। भारत में जबकि देश के किसी भी भाग में दिवाली या होली जैसे अन्य त्योहारों में लाखों लोग एक जगह से दूसरे जगह नहीं जाते हैं। उन्होंने कहा कि दो अलग-अलग संरचनाओं को कम करने और सभी शहरी सुविधाओं को गांव से जोडऩे के लिए, हमें नई पहल ‘रुर्बन’ की अवधारणा को लाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि देश में शहरों के सशक्तीकरण करने के लिए हमें आर्थिक-राजनीतिक औचित्य, तकनीकी रूप से स्मार्ट समाधान और बौद्धिक कसौटी की जरूरत है।

यह भी पढ़ें :- जात-पात और भेदभाव को त्याग सबको अपने से जोड़ें: भागवत


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *