46वें शहीद मेले की तैयारियां जोरों पर, पोस्टर जारी

46वें शहीद मेले की तैयारियां जोरों पर, पोस्टर जारी



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

फैजाबाद। गुलामी की जंजीरों को तोडक़र देश में आजादी का बसंत लाने वाले आजादी के योद्धाओं को लेकर होने वाले 46वें शहीद मेले बेवर की तैयारियां जोरों पर है। आगामी 23जनवरी से 10फरवरी तक चलने वाले मेले का पोस्टर शनिवार को डॉ. राम मनोहर लोहिया अवध विश्वविद्यालय परिसर में जारी किया गया। इस दौरान इतिहास विभाग के अध्यक्ष प्रो. अजय प्रताप सिंह, शहीद शोध संस्थान के प्रबंध निदेशक सूर्यकांत पांडेय, डॉ. फारुक जमाल, विनोद चौधरी, इं. आर के सिंह, विश्वविद्यालय कार्य परिषद सदस्य ओम प्रकाश सिंह, शहीद मेला प्रबंधक इं. राज त्रिपाठी ने संयुक्त रुप से पोस्टर जारी करने के बाद अपने विचार रखे।

यह भी पढ़ें :- अवध विश्वविद्यालय: कार्य परिषद के सदस्यों के मनोनयन को लेकर राज्यपाल को लिखा पत्र

15 अगस्त 1942 को बेवर, मैनपुरी थाने पर तिरंगा फहराते हुए शहीद हुए तीन रणबांकुरों की याद में यहां अनोखा शहीद मंदिर भी स्थापित है। इस शहीद मंदिर में आंदोलन के 26 योद्धाओं की प्रतिमाएं लगी हुई हैं। देश की आजादी पर कुर्बान हुए महानायकों की यादों को जिंदा रखने के लिए सन् 1972 से लगातार शहीद मेला का आयोजन अनवरत रुप से यहां होता हुआ चला आ रहा है।

यह भी पढ़ें :- निजी बैंक कम्पनी पर लाखों रुपए हड़पने का आरोप

सर्वप्रथम मेले की शुरुआत क्रांतिकारी जगदीश नारायण त्रिपाठी ने की थी।  देश में सबसे लंबी अवधि के शहीद मेले का यह 46वां आयोजन होगा। इस मौके पर विश्वविद्यालय कार्य परिषद सदस्य ओम प्रकाश सिंह ने बताया कि 19 दिवसीय शहीद मेले में विविध कायक्रम होंगे। शहीद मेला नेता जी सुभाष चंद्र बोस जयंती (23 जनवरी) के अवसर पर विधिवत रुप से शुरु होगा। इस बार का शहीद मेला उत्तर भारत के सबसे बड़े गुप्त क्रांतिकारी दल ‘मातृवेदी’ के महानायकों को समर्पित किया गया है। उद्घाटन समारोह में ‘मातृवेदी’ के जुड़े क्रांतिकारियों के परिजन आएंगे। यह मेला जंग ए आजादी के दीवानों की याद दिलाकर कर नौजवान पीढ़ी को रोमांचित करता रहा है।

यह भी पढ़ें :- इस गैंगस्टर ने सलमान खान को दी जान से मारने की धमकी

शहीदों की याद में लगने वाले मेले को लेकर शहीद मेला प्रबंधक इं. राज त्रिपाठी ने बताया कि उद्घाटन समारोह से लेकर समापन समारोह तक मेले का हर दिन खास तौर पर डिजाइन किया गया है। शहीद मेले में प्रमुख रूप से शहीद प्रदर्शनी, नाटक, फोटो प्रदर्शनी, विराट दंगल, पेंशनर्स सम्मेलन, स्वास्थ्य शिविर, कलम आज उनकी जय बोल, शहीद परिजन सम्मान समारोह, रक्तदान शिविर, विधिक साक्षरता सम्मेलन, किसान पंचायत, स्वतंत्रता सेनानी सम्मेलन, शरीर सौष्ठव प्रतियोगिता, लोकनृत्य प्रतियोगिता, पत्रकार सम्मेलन, कवि सम्मेलन, राष्ट्रीय एकता सम्मेलन आदि प्रमुख कार्यक्रम आकर्षण का केन्द्र होंगे।

यह भी पढ़ें :- स्वच्छता समाज का मंत्र और जीवन का हिस्सा बनना चाहिए: योगी


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *