नए साल पर पाक को तगड़ा झटका, अमेरिका ने रोकी 1624 करोड़ की मदद

नए साल पर पाक को तगड़ा झटका, अमेरिका ने रोकी 1624 करोड़ की मदद



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

नई दिल्ली। नए साल की शुरुआत होते ही पाकिस्तान को अमेरिका से तगड़ा झटका लगा। दरअसल अमेरिकी राष्टï्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने एशिया-पैसिफिक और दक्षिण एशिया के लिए नई नीति लागू की थी इसमें पाकिस्तान को चेतावनी दी थी आतंकियों की पनाहगाह को खत्म करे या फिर परिणाम भुगतने को तैयार रहे। इसी कड़ी में अमेरिका ने पाकिस्तान को 1624 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद पर तत्काल प्रभाव से रोक लगा दी है। वहीं, पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने आनन-फानन में राष्टï्रीय सुरक्षा समिति की बैठक बुलाई है।

यह भी पढ़ें :- पूर्व सैनिक ने दो घंटे में की छह लोगों की हत्या

ऑनलाइन मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, अमेरिका ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ इस्लामाबाद की ओर से की जाने वाली कार्रवाई पर ही यह निर्भर करेगा कि उसे भविष्य में आर्थिक मदद दी जाएगी या नहीं। नववर्ष पर राष्ट्रपति ट्रंप ने अपने पहले ट्वीट में इस्लामाबाद की कड़ी आलोचना की। ट्रंप ने कहा कि पिछले 15 सालों से पाकिस्तान अमेरिका को बेवकूफ बनाकर 33 अरब डॉलर की सहायता प्राप्त कर चुका है और उसने बदले में हमें सिर्फ झूठ और धोखे के अलावा कुछ नहीं दिया, वह हमारे नेताओं को बेवकूफ समझता है। उन्होंने कहा कि वे उन आतंकियों को सुरक्षित पनाह दे रखे हैं, जिन्हें हम अफगानिस्तान में तलाश रहे हैं। बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। एक वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी ने बताया कि राष्ट्रपति ट्रंप ने उम्मीद जताई है कि पाकिस्तान से आतंकी संगठनों के खिलाफ निर्णायक कार्रवाई करेगा। इसके बाद ही मदद की जाएगी।

यह भी पढ़ें :- 15 सालों से बेवकूफ बना रहा था पाकिस्तान, अब और नहीं: डोनाल्ड ट्रम्प

अमेरिका के इस बड़े कदम के बाद पाकिस्तानी प्रधानमंत्री शाहिद खाकन अब्बासी ने बुधवार तीन जनवरी को एनएससी की आपात बैठक बुलाई है। इसमें डोनॉल्ड ट्रंप के सख्त रुख के बाद भविष्य की रणनीति तय की जाएगी। बैठक में पीएम के अलावा विदेश मंत्री, गृहमंत्री, रक्षा मंत्री और तीनों सेना के प्रमुख हिस्सा लेंगे।

यह भी पढ़ें :- भीषण ठंड और घने कोहरे के साथ हुआ नए वर्ष का स्वागत


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *