पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी का गोला से रहा है गहरा नाता

पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेयी का गोला से रहा है गहरा नाता

गोला मेें अटल जी भांजी की है ससुराल, समाजसेवी भारत भूषण अग्रवाल से थी गहरी मित्रता


गोला मेें अटल जी भांजी की है ससुराल, समाजसेवी भारत भूषण अग्रवाल से थी गहरी मित्रता

अटल बिहारी बाजपेई के साथ भारत भूषण अग्रवाल

मन्दीप कुमार वर्मा

गोला गोकर्णनाथ, खीरी। देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई का लखीमपुर जिले से गहरा रिश्ता रहा है, जो कई बार गोला आकर रात्रि विश्राम कर चुके हैं। श्री बाजपेई की एक तरफ नगर के प्रमुख समाजसेवी से मित्रता, दूसरी ओर एक निकटवर्ती ग्राम में रिश्तेदारी भी थी।

यह भी पढ़े:- सीतापुर: गोली मार कर ग्राम प्रधान की हत्या

लखीमपुर का मिनी जिला माना जाने वाले गोला गोकर्णनाथ में देश के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई का शहर के प्रमुख समाजसेवी, भारत भूषण अग्रवाल राष्ट्रीय स्वंयसेवक संघ के कददावर सिपाही होने के कारण दोनों लोगों में घनिष्ठता थी। जिसके चलते वह कभी राजनीतिक तो कभी व्यक्तिगत सम्बन्धों के कारण उनका अक्सर गोला आगमन हुआ करता था। वहीं श्री बाजपेई की भांजी मंजुला मिश्रा का विवाह नगर के निकटवर्ती ग्राम जडौरा निवासी प्रमोद कुमार मिश्र के साथ वर्ष 1969 में हुआ था। जिसके कारण उनका जिले व निकटवर्ती जिलों में आगमन होता था तो वह यहां आकर रूकते थे।

यह भी पढ़े:- मुख्यमंत्री योगी के सपनों पर पानी फेरने पर तुला प्रदेश पुलिस प्रशासन!

समाजसेवी वरूण अग्रवाल बताते है कि जब पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी बाजपेई गोला आते तो वह अपनी भांजी के यहां न रूक हमारे पिता के साथ रूकते थे और उनका स्वभाव सादा और सरल था कि घर में जो खाना बना होता था वहीं खाने के लिये कहते थे। पूरे परिवार में ऐसे घुलमिल जाया करते थे कि लगता ही नहीं था कि वह कोई खास वीआईपी व्यक्ति हैं। श्री अग्रवाल ने बताया कि अटल जी के घर आने पर पूरे घर में खुशी की लहर दौड जाती थी और वह रात को पिता जी के साथ घंटो धारा प्रवाह देश के राजनीतिक परिदृश्य को लेकर बहस हुआ करती थी। वरूण अग्रवाल कहते है कि श्री बाजपेई के विचारों से प्रभावित होकर समाजसेवा से जुडे। जब कि श्री बाजपेई की भांजी का  वर्ष 2011 में  मंजुला मिश्रा का निधन हो चुका है।

यह भी पढ़े:- उपचुनाव: पांच में से तीन सीटों पर भाजपा की जीत

राजनीतिक परिदृश्य सुन मिली समाजसेवा की प्रेरणा: वरूण

वरूण अग्रवाल ने बताया कि जब अटल बिहारी बाजपेई गोला राजनीतिक परिदृश्य को लेकर धारा प्रवाह होती थी तो हम उसे बहुत ध्यान से सुनते थे और उसे सुन समाजसेवा की भावना जागृत हुई। श्री बाजपेई जी कड़े संघर्ष और चुनौतियों के बाद वह प्रधानमंत्री के पद पर पहुंचे। प्रधानमंत्री बनने के बाद भी उन्हें हर कदम पर कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा। अपने शासनकाल में वाजपेयी ने तुच्छ राजनीतिक हितों को साधने के बजाय देश के विकास के लिए कार्यक्रमों पर अमल को प्राथमिकता दी। कम ही समय में उन्होंने कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए जिससे जनता को लंबी अवधि तक लाभ मिला। इसलिए हम सभी को पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए। उन्होंने सदा निस्वार्थ भाव से कार्य कर अपना जीवन देश को समर्पित किया।

यह भी पढ़े:- भाजपा विधायक अरविंद गिरि की कार में टैंकर ने मारी टक्कर


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *