नवागत कोतवाल संजय त्यागी के लिए कांटो भरा होगा ताज!

नवागत कोतवाल संजय त्यागी के लिए कांटो भरा होगा ताज!

अधिवक्ता की गुमशुदुगी, डॉक्टर गोलीकांड, और चार लाख की लूट बनेगी चुनौती


अधिवक्ता की गुमशुदुगी, डॉक्टर गोलीकांड, और चार लाख की लूट बनेगी चुनौती

गोला गोकर्णनाथ, खीरी। पूर्व कोतवाल मधुकांत मिश्रा के चार माह का कार्यकाल में कोई उपलब्धि नहीं रही। अप्रैल से जून माह के बीच हुई हाई प्रोफाइल वारदातें जो पूर्व कोतवाल अजय कुमार सिंह, दीपक शुक्ला व मधुकांत मिश्रा से लेकर एसपी तक के लिए गले की हड्डी बनी थी, उस पर कोई कार्य न कर सके। लिहाजा चार माह का समय बिताने के बाद उन्हें पुन: क्राइम ब्रांच भेज दिया गया, जिनके स्थान पर मैलानी में तैनात प्रभारी निरीक्षक संजय कुमार त्यागी को गोला का नवागत कोतवाल बनाया गया है, जिनके लिए गोला का ताज कांटो भरा ही नहीं बल्कि तीनों घटनाओं का खुलासा करना चुनौती पूर्ण होगा।

यह भी पढ़े:- हॉकी टूर्नामेंट: गोला की टीम को हराकर लखनऊ ने ट्राफी पर जमाया कब्जा

गौरतलब है कि 26 अप्रैल को मोहल्ला लक्ष्मीनगर निवासी अधिवक्ता अजेन्द्र कुमार सुबह लखनऊ जाने की बात कहकर घर से निकले थे, लेकिन वह वापस नहीं आए। इस मामले में उनके भाई अरुण कुमार सिंह ने 27 अप्रैल को उसकी गुमशुदुगी दर्ज करा दी थी। गुमशुदगी दर्ज होने के बाद हरकत में आई पुलिस ने काल डिटेल खंगाला और उसके आधार पर अधिवक्ता की एक महिला मित्र सहित तीन लोगों को हिरासत में ले लिया था, लेकिन पुलिस हिरासत में रखने के बाद भी किसी नतीजे पर नहीं पहुंच सकी। इसके बाद  अधिवक्ता के भाई अरूण कुमार सिंह ने आईजी, डीआईजी व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलकर भाई का सुराग लगवाने की गुहार लगाई।

यह भी पढ़े:- पीडि़त को त्वरित न्याय दिलाना पहली प्राथमिकता: संजय त्यागी

दूसरी घटना 14 मई को लखीमपुर के मोहल्ला राजगढ़ निवासी सत्यवान राठौर को उनकी क्लीनिक पर अज्ञात युवक ने दिनदहाड़े गोलीमार कर घायल कर दिया था। घटना के बाद आनन-फानन में पुलिस अधीक्षक एसएस चेनप्पा भी मौके पर गए और उन्होंने घटनास्थल का निरीक्षण किया था। तीसरी घटना 12 जून को किसान सेवा सहकारी समिति कंचनपुर के आंकिक शफीक समिति की खाद बिक्री का चार लाख रुपए लेकर अलीगंज स्थित सहकारी बैक में जमा करने बाइक से जा रहे थे।

यह भी पढ़े:- जनता की कसौटी पर खरी उतरेगी कांग्रेस: जितिन प्रसाद

इसी दौरान एक अपाचे बाइक पर सवार तीन बदमाशों ने ओवरटेक कर शफीक को गिरा दिया और बदमाशों ने असलहे की नोक पर उनके पास से चार लाख रुपए लूट लिया और तंमचा हवा में लहराते हुए फरार हो गए थे। डायल 100 ने एक प्रधान के भाई सहित दो लोगों को गिरफ्तार किया था, लेकिन पुलिस उन युवकों से लूट की रकम व असलहा तक बरामद करने में नाकाम रही थी। नवागत कोतवाल तीनों हाई प्रोफाइल घटनाओं में से किन-किन घटनाओ का खुलासा कर पाएंगे, फिलहाल यह कहना मुश्किल है।

यह भी पढ़े:- photos: विराट-अनुष्का का रिसेप्शन, प्रधानमंत्री मोदी भी पहुंचे


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *