यरुशलम मामले में ट्रम्प को करारा झटका, भारत समेत 100 से अधिक देशों ने पर अमेरिका के खिलाफ किया वोट

यरुशलम मामले में ट्रम्प को करारा झटका, भारत समेत 100 से अधिक देशों ने पर अमेरिका के खिलाफ किया वोट



 

संयुक्त राष्ट्र। यरुशलम को इस्राइल की राजधानी बनाने के फैसले पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप को संयुक्त राष्ट्र से करारा झटका लगा है। भारत सहित 100 से अधिक देशों ने यरुशलम को इस्राइल की राजधानी के रुप में अमेरिका द्वारा मान्यता दिए जाने वाले फैसले के खिलाफ वाले प्रस्ताव पर मतदान किया। जबकि 35 देशों ने इससे अपने आप को अलग रखा है। अमेरिका के समर्थन में सिर्फ नौ देशों ने मतदान किया है। बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस प्रस्ताव के पक्ष में वोट करने वाले देशों को अनुदान में कटौती की धमकी दी थी।

यह भी पढ़े:- प्रदेश सरकार ने नौ अफसरों व अभियंताओं को किया निलम्बित

वैश्विक मंच पर इस मसले को लेकर अमेरिका भले ही अलग-थलग पड़ गया, लेकिन पश्चिमी और अरब देशों के सहयोगी देशों ने उसके पक्ष में मतदान कर अमेरिका को अकेला पडऩे से बचा लिया। वहीं, संयुक्त राष्ट्र में अमेरिका की राजदूत निकी हेली ने महासभा के प्रस्ताव की आलोचना की है। हेली ने कहा कि अमेरिका इस दिन को याद रखेगा जब एक संप्रभु देश के तौर पर अपने अधिकारों का इस्तेमाल करने की वजह से संयुक्त राष्ट्र महासभा में उस पर हमला हुआ। प्रस्ताव के विरोध और अमेरिका के समर्थन में वोट करने वाले देशों में  ग्वाटेमाला, होंडुरास, इजरायल, मार्शल आइलैंड्स, माइक्रोनेशिया, पलाउ, टोगो और अमेरिका शामिल रहे।

यह भी पढ़े:- photos: विराट-अनुष्का का रिसेप्शन, प्रधानमंत्री मोदी भी पहुंचे

बता दें कि अमेरिका ने घोषणा की थी कि वह यरुशलम को इस्राइल की राजधानी के रूप में मान्यता देंगे और अमेरिकी दूतावास को यरूशलम में स्थांतरित करेंगे। उनकी घोषणा के बाद लगातार विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं। येरुशलम को इजरायली राजधानी के रूप में मान्यता देकर अलग-थलग पड़े अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस फैसले का विरोध करने वाले देशों को धमकी दी है। उन्होंने कहा कि अमेरिकी मान्यता को खारिज करने के लिए महासभा में लाए जा रहे प्रस्ताव का समर्थन करने वालों देशों की वह आर्थिक मदद रोक देंगे।

यह भी पढ़े:- बीएचयू : छात्राओं के साथ छेड़छाड़ मामले में एक गिरफ्तार


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *