राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बने

राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष बने



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

नई दिल्ली। राहुल ने शनिवार को आखिरकार सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी कांग्रेस की कमान संभाल ली। उन्होंने आज आधिकारिक तौर पर पार्टी का अध्यक्ष पद संभाल लिया। पिछले 19 सालों से उनकी मां सोनिया गांधी के हाथों में कांग्रेस की बागडोर थी, जिसे आज उन्होंने अपने बेटे को सौंप दी।

भारत में इन सुविधाओं के नाम पर महिलाओं के साथ हो रहा दोयम दर्जे का व्यवहार

पार्टी मुख्यालय 24 अकबर रोड में हो रहे समारोह में केंद्रीय चुनाव प्राधिकरण के अध्यक्ष मुल्लापल्ली रामचंद्रन द्वारा राहुल के निर्वाचन का प्रमाणपत्र उन्हें सौंपे जाने के बाद कांग्रेस के नए अध्यक्ष की ताजपोशी की प्रक्रिया पूरी हुई।  समारोह में जश्न का माहौल देखने को मिला। राहुल की ताजपोशी से खुश पार्टी कार्यकताओं व समर्थकों ने मिठाइयां बांटकर, नाच-गाकर अपनी खुशी जाहिर की। रामचंद्रन ने राहुल को प्रमाणपत्र सौंपे जाने के बाद कहा कि यह ऐतिहासिक पल है। यह देश और कांग्रेस के लिए खुशी का दिन भी है। यह भावनात्मक पल भी है।

राहुल की ताजपोशी को लेकर कांग्रेस मुख्यालय के बाहर जश्न

राहुल गांधी की बतौर कांग्रेस अध्यक्ष ताजपोशी को लेकर कांग्रेस मुख्यालय के बाहर जश्न का माहौल है। उनके समर्थन में नारे लगाए जा रहे है, पटाखे छोड़े जा रहे हैं, नाच-गाना हो रहा है।

खुशी जाहिर करने के लिए मिठाइयां बांटी जा रही हैं। राहुल आज आधिकारिक तौर पर अपनी मां सोनिया गांधी से अध्यक्ष पद की बागडोर लेंगे, जिन्होंने (सोनिया) 19 सालों तक कांग्रेस की अध्यक्षता की। कांग्रेस मुख्यालय 24 अकबर रोड के बाहर रंगबिरेगे परिधानों में सजे कलाकारों का एक समूह ड्रम बजा रहा है और पंजाबी भांगड़ा धुन पर नाच हो रहा है।

खीरी: दो बच्चियों से दुराचार करने का प्रयास, मुकदमा दर्ज

हैदराबाद और राजस्थान के कलाकारों के समूह लोकनृत्य पेश कर रहे हैं। पद ग्रहण समारोह में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, सोनिया गांधी, वर्तमान और पूर्व मुख्यमंत्रियों आदि गणमान्य लोगों के उपस्थित रहने की उम्मीद है।  कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस देश के लिए एक नया संकल्प ले रही है। उन्होंने कहा कि आज हम भारत में एक नए आंदोलन का संकल्प ले रहे हैं। राहुल गांधी 2013 से कांग्रेस उपाध्यक्ष पद पर रहे हैं।

भाजपा सरकार किस नैतिक अधिकार से बिजली दरों में कर सकती है वृद्धि? : अखिलेश


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *