अब नहीं बनने देंगे दूसरा केजरीवाल: अन्ना हजारे

अब नहीं बनने देंगे दूसरा केजरीवाल: अन्ना हजारे

नलोकपाल और किसानों के मुद्दे को लेकर दिल्ली में बड़ा आंदोलन करने जा रहे अन्ना हजारे ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा में कोई अंतर नहीं है, क्योंकि दोनों ही उद्योगपतियों के पक्ष में हैं।


नलोकपाल और किसानों के मुद्दे को लेकर दिल्ली में बड़ा आंदोलन करने जा रहे अन्ना हजारे ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा में कोई अंतर नहीं है, क्योंकि दोनों ही उद्योगपतियों के पक्ष में हैं।

आगरा। कभी गांधीवादी नेता व समाजसेवी अन्ना हजारे के साथी रहे अरविन्द केजरीवाल को अन्ना हजारे ने आज नकार दिया है। यही नहीं, उन्होंने साफ कह दिया है कि उन्हें न मोदी चाहिए और न राहुल गांधी। मंगलवार को अपने आंदोलन के समर्थन में लोगों को जागरूक करने आगरा आए अन्ना हजारे का कहना है कि वह अब दूसरा अरविन्द केजरीवाल नहीं बनने देंगे।

यह भी पढ़ें:  बच्चों पर वायु प्रदूषण के प्रभाव जिंदगी भर बन सकते हैं परेशानी के सबब

जनलोकपाल और किसानों के मुद्दे को लेकर दिल्ली में बड़ा आंदोलन करने जा रहे अन्ना हजारे ने कहा कि कांग्रेस और भाजपा में कोई अंतर नहीं है, क्योंकि दोनों ही उद्योगपतियों के पक्ष में हैं। हमें उद्योगपतियों की सरकार नहीं चाहिए। हमें न मोदी चाहिए न राहुल। इन दोनों के दिमाग में उद्योगपति बसे हैं। हमें ऐसी सरकार चाहिए जिसके दिमाग में उद्योगपति नहीं किसान हो। शहीद स्मारक पर सभा को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि उनके आंदोलन में शामिल होने वालां से इस पर शपथ पत्र लिया जाएगा। वह अब दूसरा अरविंद केजरीवाल नहीं बनने देंगे। उन्होंने कहा कि मेरा अरविंद केजरीवाल से अब कोई संबंध नहीं। मेरे अगले आंदोलन में शामिल होने वालों से इस बात का शपथ पत्र लिया जाएगा कि वे न तो किसी पार्टी में शामिल होंगे और न ही कोई पार्टी बनाएंगे।

यह भी पढ़ें:  प्रेमी युगल ने जहर खाकर दी जान, गांव में पसरा सन्नाटा

अन्ना हजारे ने कहा कि प्रकृति का दोहन करके विकास नहीं विनाश होगा। ऐसा विकास शाश्वत नहीं। उन्होंने कहा कि पिछले 22 सालों में 12 लाख किसानों ने आत्महत्या की, लेकिन न इस सरकार न ही पिछली सरकारों ने किसानों की सुध ली। सरकारें सिर्फ उद्योगपतियों का ख्याल रखती हैं। उनकी प्राथमिकता में सिर्फ औद्योगिक क्षेत्र हैं। अन्ना ने कहा कि आज किसानों की हालत माल खाय मदारी, नाच करे बंदर जैसी हो गई है। उन्होंने कहा कि नोटबंदी का उद्देश्य काले धन को उजागर करना था, लेकिन कोई परिणाम नहीं मिला। उल्टे नोटबंदी से कालाधन सफेद हो गया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी से आम आदमी को कोई लाभ नहीं हुआ, अब वह 23 मार्च को दिल्ली के रामलीला मैदान में लोकपाल के समर्थन और किसान हित में जनसभा करेंगे।

यह भी पढ़ें:  पति ने किया आत्मदाह, फिर पत्नी ने भी लगाई आग

अन्ना ने कहा कि मनमोहन सरकार ने लोकपाल के ड्राफ्ट को कमजोर कर दिया। हर राज्यों में लोकायुक्त लाने के कानून बदल दिए। मनमोहन शरीफ लगते थे, लेकिन उन्होंने ने भी गड़बड़ कर दी। हर राज्य में भ्रष्टाचार की शिकायतें जारी हैं। हम स्वतंत्रता प्राप्त कर चुके हैं और ब्रिटिशों से छुटकारा पा चुके हैं, लेकिन राष्ट्र के नागरिक अभी भी सही मायने में लोकतंत्र की प्रतीक्षा कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें:  सडक़ दुर्घटनाओं में पांच घायल, दो की हालत गम्भीर


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *