कुपोषण से निपटने के लिए जागरूकता जरूरी: मोदी

कुपोषण से निपटने के लिए जागरूकता जरूरी: मोदी



नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश में कुपोषण और इससे सम्बंधित समस्याओं की रोकथाम के लिए किए जा रहे प्रयासों की समीक्षा की। सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक, एक उच्चस्तरीय समीक्षा बैठक के दौरान कुपोषण की मौजूदा स्थिति और इससे सम्बंधित अन्य समस्याओं पर शुक्रवार को चर्चा हई। इस बैठक में प्रधानमंत्री कार्यालय, नीति आयोग और अन्य मंत्रालयों के अधिकारी शामिल हुए। बैठक के दौरान कुछ अन्य विकासशील देशों के सफल पोषण कार्यक्रमों के बारे में भी चर्चा हुई।

उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने के लिए काम कर रही भाजपा: राहुल गांधी

सरकारी प्रवक्ता के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी ने कुपोषण, जन्म के समय कम वजन होना और एनीमिया को कम करने की दिशा में काम करने पर जोर दिया। उन्होंने कहा कि 2022 तक यानी स्वतंत्रता दिवस की 75वीं वर्षगांठ तक इसके सकारात्मक परिणाम नजर आने लगेंगे। मोदी ने कहा कि वरिष्ठ अधिकारियों ने बार-बार जोर देकर कह रहे हैं कि स्वच्छ भारत अभियान, मिशन इंद्रधनुष, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ और प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना जैसी सरकारी पहलों से पोषण पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा है। प्रधानमंत्री ने कहा कि वांछित परिणाम हासिल करने के लिए पोषण के महत्व को लेकर सामाजिक जागरूकता बढ़ाना आवश्यक है। उन्होंने जागरूकता बढ़ाने के लिए अनौपचारिक माध्यमों के इस्तेमाल पर जोर दिया।

केंद्र सरकार को झटका, हाई कोर्ट का ‘एस दुर्गा’ की स्क्रीनिंग पर रोक से इनकार


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *