वेबसाइट बना ऑटो इन्श्योरेन्स करने वाली कम्पनी का पर्दाफाश, संचालक गिरफ्तार

वेबसाइट बना ऑटो इन्श्योरेन्स करने वाली कम्पनी का पर्दाफाश, संचालक गिरफ्तार



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

लखनऊ। प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने फर्जी वेबसाइट बनाकर धोखाधड़ी कर ऑटो इन्श्योरेन्स करने वाली कम्पनी के मालिक को गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया जालसाज जितेन्द्र प्रताप सिंह निवासी बहराइच हाल पता थाना-गाजीपुर लखनऊ है। उसके पास से 152 आईसीआईसीआई लोमबार्ड सम्बंधी 152 कूटरचित ऑटो पॉलिसी, आई-मैक्स एजेन्टों की सूची, दो रसीद बुक प्रपोजल फार्म जारी करने की,  श्रावस्ती जिलाधिकारी, को आई-मैक्स ऑटो इन्श्योरेन्स द्वारा विभिन्न योजनाओं र्में दुपहिया वाहनो के बीमा कराने का अनुरोध-पत्र और एक लेपटॉप और अदद मोबाइल फोंन बरामद हुआ है।

गोला का चहुंमुखी विकास करना ही मेरा दायित्व: मीनाक्षी अग्रवाल

एसटीएफ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक सिंह ने बताया कि आईसीआईसीआई लोमबार्ड की ओर से ऑटोमोबाइल के इन्श्योरेन्स में गड़बडिय़ों के सम्बन्ध में जांच कर रही टीम ने पाया कि लखनऊ स्थित एक कम्पनी बिना उपयुक्त प्राधिकार के गोंडा, बहराइच व श्रावस्ती आदि स्थानों में कूटरचित इन्श्योरेन्स पॉलिसी बेच रही है। सूचना मिली की फर्जी कम्पनी चार सरकारी व छह प्राईवेट इन्श्योरेन्स कम्पनियों की पॉलिसियां कूटरचना कर बाजार में बेच रही हैं।  इस आई-मैक्स आटो इन्शोरेंस कम्पनी की जानकारी ली गई तो पाया गया कि कम्पनी का प्रोपराइटर जितेन्द्र प्रताप सिंह है, जो अपने एक पार्टनर के साथ उक्त कम्पनी के माध्यम से विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में ऑटो इन्श्योरेन्स की थर्ड पार्टी इन्श्योरेन्स पॉलिसी बेचता है।

खीरी: किशोरी के साथ पहले की छेड़छाड़, फिर परिजनों की पिटाई

इस फर्जीवाड़े के लिए निरीक्षक आईपी सिंह की टीम ने जितेन्द्र प्रताप सिंह को गिरफ्तार किया गया तथा उसके ऑफिस आई-मैक्स ऑटो इन्श्योरेन्स कम्पनी से इस धोखाधड़ी से सम्बन्धित प्रपत्र बरामद किये गये। अभियुक्त जितेन्द्र प्रताप सिंह ने पूछताछ पर बताया कि वह पूर्व में लखनऊ में एक इन्श्योरेन्स ब्रोकर के आफिस में कार्य करता था, जहां उसे अपने एक साथी से मालूम हुआ कि उस ऑफिस में कूटरचित ऑटो इन्श्योरेन्स पॉलिसी तैयार की जाती थी।  वहां से काम छोडऩे के बाद जितेन्द्र प्रताप ने एक इन्श्योरेन्स कम्पनी में कुछ दिन नौकरी की, लेकिन इसकी सन्देहास्पद गतिविधियों के कारण कम्पनी द्वारा इसे हटा दिया गया।

खीरी: स्कूल में मां को खाने देने गईं दो सगी बहनें लापता


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *