गुजरात: घरों में बनाए गए लाल रंग से क्रास के निशान, लोगों में भय

गुजरात: घरों में बनाए गए लाल रंग से क्रास के निशान, लोगों में भय



अहमदाबाद। गुजरात में विधानसभा चुनाव अपने चरम पर है कि इस बीच एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है। दरअसल अहमदाबाद के एक पाल्दी क्षेत्र में मुस्लिम सोसाइटी और हिन्दू कॉलोनियों में लाल रंग से क्रास के निशान बनाए गए हैं, जिसे लेकर लोगों में तमाम प्रकार के भय पैदा हो गए। कुछ लोग इसे सियासत बता रहे हैं और कुछ लोग साम्प्रदायिकता का रंग देने की बात कर रहे है। बता दें कि दिन पहले इसी इलाके में एक विवादास्पद पोस्टर लगाया गया था, जिसमें गया था कि यह इलाका मुस्लिम बस्ती हो गया है।

childrens day 2017: बाल दिवस आते-जाते रहे, पर नहीं बदल सका बच्चों का भविष्य

गुजरात के अहमदाबाद शहर के पाल्दी क्षेत्र में अमन कॉलोनी, नशेमैन अपार्टमेंट, टैगोर फ्लैट, आशियाना अपार्टमेंट और तक्षशिला कॉलोनी के बाहर मेन गेट पर लाल रंग से निशान बनाए गए हैं। इसे लेकर लोगों में भय और चिंता का माहौल है। इस बीच 2002 के दंगों को झेल चुके डिलाइट अपार्टमेंट्स के लोगों ने चुनाव आयोग और पुलिस कमिश्नर को पत्र लिखकर कहा कि लाल निशान लगाने का उद्देश्य मुस्लिम इलाकों की पहचान करना है और लाल रंग का उद्देश्य इलाके की शांति को खत्म करना है। जबकि डिलाइट अपार्टमेंट के वॉचमैन सत्तार ने कहा कि उन्होंने लाल निशान पर काला स्प्रे छिडक़ दिया है। उन्होंने कहा कि कुछ लोगों ने बताया है कि जिन इलाकों से कूड़ा उठाना है, उनकी पहचान के लिए सफाई कर्मचारियों ने ये निशान लगाए हैं। नगर निगम के स्वास्थ्य अधिकारी नितिन प्रजापति ने कहा कि ये निशान सफाई अभियान के तहत लगाए गए हैं।

बनियान और ब्रा में इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस लगाकर कराते थे नकल, तीन गिरफ्तार


मोदीजी सबका साथ, सबका विकास की बात कर रहे हैं। इस तरह के घृणा अभियान वर्ष 2002 के चुनाव के दौरान भी नहीं हुए थे। क्या हमें यह विश्वास करना चाहिए कि यह बीजेपी मोदी के साथ नहीं है?

जफर सरेशवाला, कुलपति, मौलाना आजाद राष्ट्रीय उर्दू


ये निशान स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं ने लगाए हैं, लेकिन मामले की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। यदि ये निशान कूड़ा उठाने के लिए लगाए गए हैं तो हम अपनी टीम भेजेंगे, ताकि वहां के निवासियों को यह बताया जा सके।

एके सिंह, पुलिस प्रमुख


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *