फर्जी आधार बनाने वाले गिरोह का मास्टमाइंड दुर्गेश गिरफ्तार

फर्जी आधार बनाने वाले गिरोह का मास्टमाइंड दुर्गेश गिरफ्तार



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

लखनऊ। प्रदेश पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) आधार कार्ड के निर्धारित बायोमैट्रिक मानक को बाईपास और क्लोन फिंगर प्रिन्ट बनाकर फर्जी आधार कार्ड बनाने वाले गिरोह के मास्टर माइण्ड दुर्गेश कुमार मिश्रा को आज लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया है। आरोपी ने अपना जुर्म स्वीकार किया है। करने मे उल्लेखनीय सफलता प्राप्त हुई। पकड़ा गया आरोपी दुर्गेश कुमार मिश्रा पुत्र बलराम प्रसाद मिश्रा मध्य प्रदेश के जिला-शहडोल के थाना जैतपुर ग्राम जमुनिहा का रहने वाला है। जिसके पास से एक लेपटॉप और एक मोबाइल फोन बरामद हुआ है।

तीन महीने में होगा एसडीआरएफ का गठन: डीजीपी

बता दे कि बीती 25 अगस्त को यूआईडीएआई के डिप्टी डायरेक्टर रूपेश शर्मा ने बायोमैट्रिक मानक को बाईपास और क्लोन फिंगर प्रिन्ट बनाकर आधार कार्ड बनाने वाले गिरोह के विरूद्ध थाना-साइबर क्राइम, लखनऊ में रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इस मामले में एसटीएफ ने 09 सितम्बर को गिरोह के 10 सदस्यों को गिरफ्तार किया था। जिके पास से भारी भारी संख्या में उपकरण और अभिलेख भी मिले थे।

रिपोर्ट: नोटबंदी के बाद भी कालेधन का नहीं हो सका सफाया

यूपी एसटीएफ के एसएसपी अभिषेक सिंह ने बताया कि पूछताछ पर आरोपियों ने गिरोह के मास्टर माइण्ड के रूप में दुर्गेश कुमार मिश्रा का नाम बताया था। दुर्गेश की गिरफ्तारी के  लिए टीम उसके खिलाफ जानकारियां जुटाने लगी। अभिसूचना संकलन के दौरान पता चला कि दुर्गेश कुमार मिश्रा पहल इन्फो सिस्टम प्रालि की सिस्टर कन्सर्न आभा कन्सल्टेन्सी, जो आधार कार्ड बनाने के  लिए अधिकृत की गयी थी, का असिस्टेंट प्रोजेक्ट मैनेजर है, जिसके द्वारा पूर्व में गिरफ्तार अभियुक्त सौरभ को टेम्पर्ड क्लांइन्ट साफ्टवेयर व कृत्रिम फिंगर प्रिंट आदि बनाने की विधि ई-मेल के माध्यम से उपलब्ध करायी गयी थी।

गुजरात मेरी आत्मा और भारत मेरा परमात्मा: मोदी

इस जानकारी के आधार पर एसटीएफ ने मंगलवार को दुर्गेश कुमार मिश्रा को अग्रिम पूछताछ के लिए थाना-साइबर क्राइम, लखनऊ पर बुलाया गया।  पूछताछ पर अपराध की पुष्टि होने पर उसे गिरफ्तार कर लिया गया। एसएसपी ने बताया कि गिरफ््तार अभियुक्त से उसके नेटवर्क के बारे में महत्वूपर्ण नई जानकारियॉ प्राप्त हुई हैं, जिन पर अग्रिम कार्यवाही की जा रही है। अभियुक्त से बरामद लैपटाप से इस अभियुक्त के सम्बन्ध में अपराध करने के ठोस साक्ष्य प्राप्त हुए हैं। बरामद लैपटाप की आग्रिम जॉच कम्प्यूटर फोरेन्सिक तकनीकों के माध्यम भी करायी जायेगी।

जीएसटी और नोटबंदी ने तोड़ी छोटे व्यापारियों की कमर: मनमोहन


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *