भारत दूध में प्रथम, फल-सब्जी उत्पादन में दूसरे स्थान पर: राधा मोहन

भारत दूध में प्रथम, फल-सब्जी उत्पादन में दूसरे स्थान पर: राधा मोहन



नई दिल्ली। केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने कहा कि देश आज दूध उत्पादन में प्रथम और फल-सब्जी उत्पादन में द्वितीय स्थान पर है, जबकि मछली उत्पादन में तीसरे और अंडा उत्पादन में पांचवें स्थान पर है।

जो पहले विश्व बैंक में थे, अब भारत की रैंकिंग पर उठा रहे सवाल: मोदी

केंद्रीय कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह वल्र्ड फूड इंडिया, 2017 के अवसर पर ‘फल, सब्जियां, डेयरी, पोल्ट्री एवं मात्स्यिकी- विविधतापूर्ण भारतीय संभावनाओं का सदुपयोग करना’ विषय पर आयोजित सम्मेलन को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि आजादी के समय हम जहां 34 करोड़ जनता को खाद्यान्न की आपूर्ति नहीं करा पा रहे थे, आज खाद्यान्न की कमी से जूझने वाले देशों की श्रेणी से आगे बढ़ते हुए 134 करोड़ जनता को भोजन उपलब्ध कराने के साथ खाद्यान्न का निर्यात करने वाला देश बन गए हैं। सिंह ने कहा कि हम विश्व के केवल दो प्रतिशत जमीन के भू-भाग से विश्व की लगभग 17 प्रतिशत मानव आबादी, 11.3 प्रतिशत पशुधन तथा व्यापक अनुवांशिकी धरोहर का न केवल भरण-पोषण कर पा रहे हैं, बल्कि खाद्यान्न का निर्यात भी कर रहे हैं।

भारत में रैनसमवेयर का खतरा सबसे ज्यादा

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि आजादी के समय जहां 34 करोड़ जनता को हम 130 प्रति ग्राम प्रतिदिन के हिसाब से दूध की आपूर्ति कर पाते थे, वहीं आज 134 करोड़ जनता को 337 प्रति ग्राम प्रतिदिन के हिसाब से दूध की आपूर्ति कर पा रहे हैं। दूध उत्पादन में यह एक अतुलनीय उपलब्धि है। हम बड़ी मात्रा में कृषि जिंसों का निर्यात करते हैं, जो देश के कुल निर्यात का लगभग 10 प्रतिशत है।

भारत ने 918 किलो की खिचड़ी के साथ बनाया विश्व रिकॉर्ड

केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा कि एमआईडीएच के तहत मेगा फूड पार्को और निर्यात संवर्धन अंचलों के क्षेत्र में प्रसंस्करण किस्मों सहित फलों और सब्जियों के सामूहिक क्षेत्र का विकास करने के लिए राज्य बागवानी मिशन, बागवानी फसलों/फार्म स्तरीय कार्यक्रमों को बढ़ावा दे रहे हैं। वर्ष 2016-17 में बागवानी उत्पाद का निर्यात 50.5 लाख मीट्रिक टन था (ताजे फल और सब्जी-41.6 लाख मीट्रिक टन, प्रसंस्कृत फल एवं सब्जी- 08.8 लाख मीट्रिक टन, पुष्प कृषि- 33725 मीट्रिक टन) और मूल्य के संदर्भ में 12 प्रतिशत की दर पर बढ़ रहा है।

ओजोन छेद 1988 के बाद सबसे छोटा: वैज्ञानिक


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *