रायबरेली: एनटीपीसी में ब्वॉॅयलर की पाइप फटने से 15 की मौत, सैकड़ों घायल

रायबरेली: एनटीपीसी में ब्वॉॅयलर की पाइप फटने से 15 की मौत, सैकड़ों घायल

रायबरेली के ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी की सभी छह इकाइयों में विद्युत उत्पादन चल रहा था। दोपहर बाद करीब साढ़े तीन बजे छठी इकाई में भयावह विस्फोट हुआ।


Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

रायबरेली के ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी की सभी छह इकाइयों में विद्युत उत्पादन चल रहा था। दोपहर बाद करीब साढ़े तीन बजे छठी इकाई में भयावह विस्फोट हुआ।

रायबरेली। प्रदेश के रायबरेली के ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी (नेशनल थर्मल पावर कॉर्पोरेशन) में एक बड़ा हादसा गया है। एनटीपीसी में बॉयलर की स्टीम पाइप फटने से अब तक 15 मजदूरों की मौत होने की खबर है। जबकि सौ से ज्यादा लोग झुलस गए हैं। हादसे में मृतकों की संख्या अभी और बढ़ सकती है। बताया जा रहा है हादसे के समय में 150 से ज्यादा मजदूर काम कर रहे थे। हालांकि एनटीपीसी के अधिकारियों ने चार लोगों के मरने की पुष्टि की है। घायलों को आस-पास के अस्पतालों में भर्ती कराया जा रहा है। हालांकि प्रदेश के एडीजी लॉ ऐंड ऑर्डर ने बताया कि घटनास्थल से 10 शव बरामद किए जा चुके हैं। कम से कम 60-70 लोग घायल हैं। उन्होंने कहा कि हमारा पहला उद्देश्य हादसे में घायल हुए लोगों को तत्काल इलाज उपलब्ध कराना है। वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह बात की। उन्होंने केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव को सभी तरह की मदद मुहैया कराने के निर्देश दिए हैं। घटनास्थल पर राहत और बचाव कार्य जारी हैं। लखनऊ से एनडीआरएफ की एक टीम मौके के लिए रवाना हो चुकी है।

विश्व बैंक रिपोर्ट: भारत ने कारोबार सुगमता रैंकिंग में लगाई लंबी छलांग

जानकारी के मुताबिक, रायबरेली के ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी की सभी छह इकाइयों में विद्युत उत्पादन चल रहा था। दोपहर बाद करीब साढ़े तीन बजे छठी इकाई में भयावह विस्फोट हुआ। बताया जा रहा है कि विस्फोट ब्वॉयलर से निकलने वाली राख की पाइप में हुआ। यह भारी भरकम पाइप इकाई से सीधे ऐश पांड में जाती है, जो यूनिट में करीब 90 फुट की ऊंचाई पर है। बताया जा रहा है यहां सौ ज्यादा की संख्या में श्रमिक काम कर रहे थे।

बताया जा रहा है कि पाइप का व्यास बहुत बड़ा है, जिसके फटने से काफी मात्रा में आग की तरह तप रही राख का मलबा बाहर आया, जिसकी चपेट में तमाम लोग आ गए। बताया जा रहा है कि कई लोग उस तप रही राख के मलबे में दब गए हैं। हादसे के तत्काल बाद वहां भगदड़ जैसी स्थिति हो गई। चीख-पुकार मच गई। बताया जा रहा है कि एनटीपी के अफसर और राहत व बचाव टीम छठी यूनिट में पहुंच गई और राख में दबे लोगों को निकाल निकाल कर एनटीपीसी के अस्पताल में भेजा है। इसके अलावा अन्य अस्पतालों में भेजा जा रहा है। बताया जा रहा है कि कुछ गम्भीर रूप से घायलों को लखनऊ भी भेजा गया है।

अब बाबरी मस्जिद पर बाबर के वंशज ने पेश किया दावा

राहत और बचाव कार्य जारी

रायबरेली के डीएम संजय खत्री ने बताया कि एनटीपीसी प्लांट में प्रेशर के कारण ऐश पाइप फटने से यह हादसा हुआ है। इस बीच राष्ट्रीय आपदा राहत बल (एनडीआरएफ) की 32 सदस्यीय टीम ऊंचाहार पहुंच गई है, जो राहत और बचाव कार्य में लगी हुई है। एनटीपीसी ने कहा कि एनटीपीसी ऊंचाहार की 500 मेगावॉट अंडर ट्रायल यूनिट के बॉयलर में एक दुर्भाग्यपूर्ण हादसा हुआ है। कमिश्नर लखनऊ और आईजी घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं। लखनऊ के किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी को भी इलाज के लिए दिशा-निर्देश दिए गए हैं। घटनास्थल पर जिले के सीएमओ और सीएमएस मौजूद हैं।

युवक ने मासूम से किया बलात्कार, आरोपी गिरफ्तार

एनटीपीसी में लोगों के प्रवेश पर लगा दी गई रोक

बताया जा रहा है कि घटना के बाद से एनटीपीसी में लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। पूरे परिसर को सीआईएसएफ ने अपने सुरक्षा घेरे में ले लिया है। लखनऊ से एनडीआएफ की टीम ऊंचाहर भेजी गई है।

युवक ने मासूम से किया बलात्कार, आरोपी गिरफ्तार

मृतकों के परिजनों को 2 लाख मुआवजा

एनटीपीसी हादसे पर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की नजर है। अभी वह मॉरिशस के दौरे पर हैं। मुख्यमंत्री आदित्यनाथ ने प्रमुख सचिव गृह को मौके पर राहत और बचाव कार्य से जुड़े कदम तत्काल उठाने के निर्देश दिए हैं। मुख्यमंत्री ने इस हादसे पर गहरा दुख जताया और मृतकों के परिजनों को दो लाख रुपए की मदद का ऐलान किया है। इसके अलावा गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार रुपये और सामान्य घायलों को 25 हजार रुपये की आर्थिक सहायता का ऐलान किया गया है। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने रायबरेली के जिलाधिकारी और अन्य वरिष्ठ अफसरों को घायलों के समुचित इलाज का निर्देश दिया है।

यूनिट में 1500 से ज्यादा मजदूर

बता दें कि रायबरेली की ऊंचाहार स्थित एनटीपीसी इकाई में डेढ़ हजार से अधिक मजदूर काम करते हैं। हादसे की सूचना के फौरन बाद जिले की सभी एंबुलेंस एनटीपीसी बुलाई गई हैं। इस दौरान कई मजदूरों के लापता होने की भी सूचना मिल रही है। मौके पर पहुंचे मजदूरों के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। हादसे को लेकर एनटीपीसी के अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है। बताया जा रहा है कि हादसे में एनटीपीसी के तीन एजीएम (असिस्टेंट जनरल मैनेजर) संजीव कुमार शर्मा, प्रभात श्रीवास्तव और मिश्रीराम भी घायल हुए हैं।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *