नेपालियों को सेना भर्ती के लिए फर्जी दस्तावेज मुहैया कराने वाले तीन शख्स गिरफ्तार

नेपालियों को सेना भर्ती के लिए फर्जी दस्तावेज मुहैया कराने वाले तीन शख्स गिरफ्तार



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

लखनऊ/वाराणसी। प्रदेश के आतंकवाद विरोधी दस्ते (एटीएस) ने नेपाली युवकों को भारतीय सेना में भर्ती होने के लिए फर्जी मार्क शीट और प्रमाण पत्र बनवा कर देने वाले 03 अभियुक्तों आज वाराणसी से गिरफ्तार किया है इनके बारे में जानकारी एटीएस को पहले गिरफ्तार किए गए फर्जी दिलीप गिरी उर्फ विष्णु लाल भट्टा राय और दलाल चंद्र बहादुर खत्री से पूछताछ में मिली।

फर्जी दस्तावेजों के साथ मुरादाबाद से पकड़ा गया आतंकी फरहान अहमद

पकड़े गए तीनों लोगों की पहचान नागेश्वर मौर्या, अवध प्रकाश उर्फ बबलू मौर्य और अजय कुमार सिंह के रूप में हुई है। तीनों आपस में मिलकर पैसे का लेन-देन कर दलाल चंद्र बहादुर को नेपाली युवकों केलिए फर्जी फर्जी शैक्षणिक प्रमाण पत्र तैयार कर के देते थे।

मुख्यमंत्री से मिलने तमंचा लेकर पहुंचा युवक, गिरफ्तार

पूछताछ में गिरफ्तार तीन फर्जी बाजो के पता चला कि आरोपी नागेश्वर मौर्या की वाराणसी में कचहरी पर नारायण इंटरप्राइजेज के नाम से दुकान है, जहां फोटो स्टेट प्रिंटिंग एवं टाइपिंग आदि का कार्य होता है। इसी दुकान पर दूसरा आरोपी अवध प्रकाश उर्फ बबलू मोर्य नौकरी है और नागेश्वर के संरक्षण में दुकान में फर्जी मार्कशीट आदि बनाता था। पकड़ा गया तीसरा शख्स अजय कुमार सिंह नागेश्वरकी  दुकान से फर्जी मार्कशीटो तथा प्रमाण पत्रों को पैसे देकर बनवाता था।

यूपी बोर्ड परीक्षा की समय सारणी जारी, छह फरवरी से होगी परीक्षाएं

यूपी एटीएस के आईजी असीम अरुण ने आईपीएन को बताया कि एटीएस के निरीक्षक विजय मल यादव के नेतृत्व में गिरफ्तार तीनां अभियुक्तों से पूछताछ कर आवश्यक कार्यवाही की जारही है। उन्होंने बताया कि अब तक की पूछताछ में पता चला है कि अजय कुमार पहले गिरफ्तार किए गए दलाल चंद्र बहादुर खत्री का प्रमुख दलाल है। जो खत्री को फर्जी शैक्षणिक प्रमाण पत्र उपलब्ध कराने का कार्य करता है। उन्होंने बताया कि अजय एक मार्कशीट, सनद बनवाने के बदले लगभग 1500 रुपए चंद्र बहादुर खत्री से लेता और उसमें से अवध प्रकाश को भी 300 से 400 देकर मार्कशीट व सनद बना कर लेता। वहीं चंद्र बहादुर खत्री हाईस्कूल व इंटर की मिली मार्क सीटों को नेपाली युवकों को देकर उन्हें सेना में भर्ती कराने का कार्य करता था। चंद्र बहादुर नेपालियों से इन मार्कशीट के बदले लाखों रुपए की लेता था। उन्होंने बताया कि अभियुक्तों के पास से बरामद शैक्षणिक प्रमाण पत्रों को शिक्षा बोर्ड से वेरीफाई कराया जा रहा है। सेना में भर्ती विष्णु लाल भट्टा राय (दिलीप) को भी इसी ने ही फर्जी प्रमाण पत्र आदि उपलब्ध कराए थे। आईजी ने बताया कि तीनों गिरफ्तार अभियुकतों से पूछताछ जारी है।

मुख्यमंत्री योगी की सोशल मीडिया पर डाली आपत्तिजनक तस्वीर, सात मुस्लिम युवक नामजद


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *