पौराणिकता के साथ काशी का आधुनिकता के संग हो रहा विकास : योगी

पौराणिकता के साथ काशी का आधुनिकता के संग हो रहा विकास : योगी



वाराणसी। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि काशी दुनिया का प्राचीनतम शहर है। इसकी प्राचीनता, ऐतिहासिकता एवं पौराणिकता को बनाये रखते हुए आधुनिकता के साथ काशी का विकास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि पिछली सरकारों ने केन्द्र द्वारा संचालित विकास योजनाओं का क्रियान्वयन सही ढंग से नहीं किया। लेकिन हमारी सरकार ने केन्द्र सरकार द्वारा संचालित विकास योजनाओं का क्रियान्वयन युद्धस्तर पर कराया है, जिसका परिणाम अब लोगों को दिखने लगा है। उन्होंने प्रदेश सरकार विकास योजनाओं का क्रियान्वयन जाति, धर्म एवं मजहब के आधार पर नहीं करती है, बल्कि इनको सबका साथ और सबका विकास के पैमाने के आधार पर लागू किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री आज वाराणसी में चौकाघाट स्थित सांस्कृतिक संकुल में नगर विकास योजनाओं के लोकार्पण एवं शिलान्यास, फसल ऋण मोचन योजना प्रमाण-पत्र वितरण, विकास खण्ड काशी विद्यापीठ को खुले में शौचमुक्त घोषित किये जाने, नगरीय क्षेत्र के 111 विद्यालयों की अवस्थापना सुविधाओं का शुभारम्भ किये जाने के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे।

रट्टू तोता बनने से नहीं हो पाएगा विकास: उप मुख्यमंत्री

योगी ने कहा कि देश में विकास के नये आयाम बन रहे हैं। शीघ्र ही भारत दुनिया के तीन ताकतवर एवं विकसित देशों की श्रृंखला में शामिल हो जायेगा। उन्होंने स्वच्छता कार्यक्रम के सम्बन्ध में कहा कि वाराणसी शहर के 90 वार्ड पहले ही खुले में शौचमुक्त हो चुके हैं और आज विकास खण्ड काशी विद्यापीठ खुले में शौचमुक्त घोषित किया गया है। उन्होंने पूरे जिले को 31 दिसम्बर तक खुले में शौचमुक्त किये जाने का जिला प्रशासन के लिये लक्ष्य निर्धारित करते हुए कहा कि प्रत्येक घर में इज्जत घर स्वरूप शौचालय का निर्माण अवश्य हो जाए। उन्होंने किसानों को फसल ऋण मोचन योजना प्रमाण-पत्र वितरित किए और सरकार के विकास कार्य गिनाए।

बीवी थी प्रेग्नेंट, पति ने किया सुसाइड, मौत की है ये वजह

मंदिरों के सर्किट के रूप में बनेगा ’पावन पथ’

मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने कहा कि काशी गलियों का शहर है और हर गली का अपना इतिहास है। इसकी पौराणिकता को ध्यान में रखते हुए गलियों की मरम्मत एवं सुधार कराया जायेगा। कहा कि प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र होने के अलावा, काशी सनातन हिन्दू धर्म की आस्था का केन्द्र भी है। काशी को उसके विश्वस्तरीय स्वरूप में पुनः वापस लाने के लिए उन्होंने काशी विश्वनाथ को केन्द्र मानते हुए महामृत्युंजय महादेव, कालभैरव सहित नवदुर्गा एवं नवगौरी के मंदिरों का सर्किट के रूप में ’पावन पथ’ बनाये जाने के निर्देश दिये। उन्होंने पावन पथ के मार्गों को अतिक्रमणमुक्त कराकर उनका सुन्दरीकरण, प्रकाश व्यवस्था सहित सफाई की समुचित व्यवस्था सुनिश्चित कराये जाने पर विशेष जोर दिया। उन्होंने कहा कि काशी को अतिक्रमणमुक्त किया जायेगा, ताकि श्रद्धालुओं को बेहतर से बेहतर सुविधाएं मुहैया करायी जा सकें।

शौच को गई किशोरी से युवकों ने किया सामूहिक बलात्कार

उन्होंने स्वच्छ भारत मिशन के तहत वाराणसी जनपद के पहले विकास खण्ड, काशी विद्यापीठ को आज से खुले में शौचमुक्त घोषित करते हुए तद्विषयक प्रमाण-पत्र जिलाधिकारी योगेश्वर राम मिश्र को प्रदान किया। इसके उपरान्त मुख्यमंत्री ने मोरारी बापू के रामकथा श्रवण कार्यक्रम में भी भाग लिया।

पार्क की बेंच पर ही कर रहा था सेक्स, वीडियो हो गया वायरल


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *