यूपी का यह छात्र बिना पैसे घूमा पूरा देश, जानिए कैसे

यूपी का यह छात्र बिना पैसे घूमा पूरा देश, जानिए कैसे

अंश मिश्रा ने बिना पैसे देश के 29 राज्यों और चार केंद्र शासित प्रदेशों का भ्रमण 250 दिनों में कर अपने अंतिम पड़ाव जगदलपुर पहुंचा


अंश मिश्रा ने बिना पैसे देश के 29 राज्यों और चार केंद्र शासित प्रदेशों का भ्रमण 250 दिनों में कर अपने अंतिम पड़ाव जगदलपुर पहुंचा

अंश मिश्रा ने बिना पैसे देश के 29 राज्यों और चार केंद्र शासित प्रदेशों का भ्रमण

छत्तीसगढ़। पैसा ही सब कुछ नहीं होता। इस बात को सिद्ध करने के लिए इलाहाबाद तकनीकी महाविद्यालय से एमसीए एवं एमबीए की शिक्षा प्राप्त 28 वर्षीय अंश मिश्रा ने बिना पैसे देश के 29 राज्यों और चार केंद्र शासित प्रदेशों का भ्रमण 250 दिनों में कर अपने अंतिम पड़ाव जगदलपुर पहुंचा। अंश ने स्थानीय बस्तर बाजार परिसर में पत्रकारों से अनुभव साझा किया।

अंश मिश्रा ने कहा कि उन्होंने तीन फरवरी को बिना पैसे के यात्रा शुरू की और राष्ट्रीय राजमार्ग पर चलने वाले वाहनों से लिफ्ट लेते हुए और चालकों और लोगों के सहयोग से बिना पैसे के सफर और भोजन किया। कई लोगों ने इस दौरान पैसों से सहयोग करना चाहा, पर उसने स्वीकार नहीं किया। साथ ही राष्ट्रीय राजमार्ग पर चलने वाले ट्रक चालकों की डॉक्यूमेंट्री तैयार की। उन्होंने कहा कि यात्रा के दौरान 18 हजार ट्रक चालकों ने उन्हें लिफ्ट दी। साथ ही उनके साथ खाना बनाकर ट्रक के नीचे सोकर रात बिताई। किसी ने भी उनके साथ दुव्र्यवहार नहीं किया।

खीरी: सुहागरात पर पत्नी को देख पति के उड़ गए होश

सूरत में हुई काफी परेशानी

यात्रा के दौरान होने वाली समस्याओं के सवाल पर उन्होंने कहा कि गुजरात के सूरत में काफी परेशानी हुई। नौ घंटे तक इंतजार करना पड़ा, उसके बाद लिफ्ट मिली। 26 घंटे तक भोजन भी नहीं मिला। तबीयत भी खराब हो गई। सूरत में उन्हें कहीं भी मेहमाननवाजी नजर नहीं आई। इसी तरह केरल में भी अजनबी को लोग स्वीकार नहीं करते हैं। किसी परिचित के यहां रुके मेहमान के विषय में भी जानकारी हासिल करते हैं। यह उनकी सुरक्षा के लिए हालांकि अच्छी बात है।

खनन माफियाओं ने तहसीलदार को बनाया बंधक

अंश ने कहा कि यात्रा के दौरान उन्हें चार बार चिकन पॉक्स भी हुआ। पारिवारिक भावुकता को त्यागते हुए वह अपने परिजन और मित्रों के चार विवाहों में शामिल नहीं हो पाए। उन्होंने कहा कि बस्तर बहुत ही सुंदर जगह है। यहां कई लुभावने पर्यटन स्थल हैं, लेकिन बस्तर के साथ जुड़ी माओवाद की समस्या के चलते देश के लोग बस्तर आना नहीं चाहते। अंश ने कहा कि मुझे भी परिवार वालों ने बस्तर नहीं जाने की सलाह दी थी, मगर बस्तर आकर किसी तरह की परेशानी या डर का अनुभव नहीं हो रहा है। जो सुना था, उस पर यकीन भी नहीं हो रहा है। बस्तर में पर्यटन उद्योग की अपार संभावनाएं हैं। अंश ने कहा कि उनकी देश-यात्रा के अनुभव को वह न तो बेच सकते हैं और न ही कोई खरीद सकता है। वह अब जगदलपुर से इलाहाबाद भी बगैर पैसे के ही यात्रा पर निकलेंगे।

युवती को अगवा कर गैंगरेप, हाथ पैर बांध कर झाड़ी में फेंका


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *