हमारे सभी उत्सवों का मकसद समाज में फैली विकृतियों को मिटाना है: प्रधानमंत्री मोदी

हमारे सभी उत्सवों का मकसद समाज में फैली विकृतियों को मिटाना है: प्रधानमंत्री मोदी



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn
राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत अन्य नेताओं ने रामलीला के कलाकारों के माथे पर तिलक लगाकर उनकी आरती भी की

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हमारे हर उत्सव मनुष्य को सामूहिकता और समाज के प्रति संवेदनशीलता की तरफ ले जाते हैं। उन्होंने कहा कि हमें समाज और जीवन में व्याप्त रावण को खत्म करने की कोशिश करनी चाहिए। हमारे सभी उत्सवों का मकसद समाज में फैली विकृतियों को मिटाना है। उन्होंने कहा कि हमारे उत्सव खेत खलिहान से भी जुड़े हैं। नदी-पर्वतों और इतिहास से भी जुड़े हुए हैं। हजारों साल बाद भी प्रभु राम और कृष्ण की गाथाएं समाजिक जीवन को चेतना-प्रेरणा देती रहीं।

यह भी पढ़ें : आगरा में युवक का शव मिलने से हडक़ंप

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को दशहरा के अवसर पर लाल किले के सुभाष मैदान में लोगों को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हमारे देश में उत्सव एक प्रकार से सामाजिक शिक्षा का माध्यम है। हर उत्सव का मकसद समाज को प्रगति की ओर ले जाना है। उन्होंने ध्यान दिलाया कि उत्सव का मकसद सिर्फ मनोरंजन नहीं बनने देना चाहिए। हमारे उत्सव खेत खलिहान से भी जुड़े हैं। सांस्कृतिक परंपराओं से जुड़े हैं।

यह भी पढ़ें : कुशीनगर: नहर में मिला युवक का शव

उन्होंने कहा कि अयोध्या से निकले राम ऐसा संकल्प जगा देते हैं कि नर, वानर और प्रकृति सभी को अपने साथ जोड़ लेते हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि हम सभी को भी संकल्प लेना चाहिए कि 2022 तक देश को कुछ न कुछ योगदान करें। उन्होंने कहा 2022 में आजादी के 75 वर्ष पूरे होंगे।

दशहरा अच्छाई पर बुराई का प्रतीक: कोविंद

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा कि हम सभी लोग जानते हैं कि दशहरा अच्छाई की बुराई पर विजय का प्रतीक है। प्रभु राम के जीवन आदर्श मानवता के लिए आज पूरी तरह प्रासंगिक हैं, लेकिन मुझे लगता है कि उन आदर्शों की सार्थकता तभी कामयाब होगी, जब हम उन्हें अपने आचरण में ढालने की कोशिश करें।

यह भी पढ़ें : राम ने बालि का किया वध, हनुमान ने जलाई लंका

बता दें कि हर साल विजयदशमी के दिन प्रधानमंत्री और राष्ट्रपति रावण दहन कार्यक्रम में शामिल होते हैं। इस बार दिल्ली की मशहूर श्री धार्मिक लीला कमेटी में राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ ही पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी उपस्थित रहे। इस अवसर पर राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री समेत अन्य नेताओं ने रामलीला के कलाकारों के माथे पर तिलक लगाकर उनकी आरती भी की।

यह भी पढ़ें : अब स्कूली पाठ्यक्रमों में शामिल होगा सीपीआर


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *