बाबा राम रहीम के खुलेंगे कई राज, डेरे की तलाशी के लिए बुलाई गई सेना

बाबा राम रहीम के खुलेंगे कई राज, डेरे की तलाशी के लिए बुलाई गई सेना



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn
डेरा सच्चा सौदा
तलाशी अभियान शुरू करने से पहले सिरसा में कफ्र्यू लगा दिया गया है।

रोहतक। हरियाणा के सिरसा में डेरा सच्चा सौदा के मुख्यालय की तलाशी के लिए सेना के पांच हजार जवानों, बम स्क्वायड, ताला तोडऩें के लिए 22 विशेषज्ञों को बुलाया गया है। तलाशी अभियान शुरू करने से पहले सिरसा में कफ्र्यू लगा दिया गया है। तलाशी अभियान के दौरान वीडियोग्राफी कराई जाएगी। वहीं, मीडिया को तलाशी अभियान से दूर रखा गया है। तलाशी की प्रक्रिया अवकाश प्राप्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश एकेएस पवार की निगरानी में की जाएगी। गौरतलब है कि पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय ने मंगलवार को उन्हें कोर्ट कमिश्नर नियुक्त किया था।

यह भी पढ़ें : साध्वी से रेप का मामला: बलात्कारी बाबा राम रहीम को 20 साल की सजा

कल ही सिरसा पहुंच गए थे कमिश्नर

जानकारी के अनुसार, कमिश्नर एकेएस पवार गुरुवार को ही सिरसा पहुंच गए थे। इसके बाद उन्होंने तलाशी अभियान को लेकर उच्चाधिकािरयों से मिलकर स्थिति का जायजा लिया था। बता दें कि डेरा परिसर करीब 800 एकड़ से ज्यादा क्षेत्र में फैला हुआ है। इसमें शिक्षण संस्थानों के साथ ही बाजार, अस्पताल, स्टेडियम और घर भी हैं।

यह भी पढ़ें : कोतवाली परिसर में चल रहे सेक्स रैकेट का भंडाफोड़, दो गिरफ्तार

41 कम्पनियां तैनात

तलाशी प्रक्रिया में हरियाणा पुलिस के कर्मियों के अलावा अर्धसैनिक बल, ड्यूटी मजिस्ट्रेट, कार्यकारी मजिस्ट्रेट और राजस्व अधिकारी भी शामिल हैं। डेरा के पास 16 नाके बनाए गए हैं और सिरसा जिले में अर्धसैनिक बलों की 41 कंपनियां तैनात की गई हैं। इस बीच पुलिस और डेरा प्रबंधन का कहना है कि अधिकतर डेरा समर्थकों ने लाइसेंसी हथियार पुलिस को जमा करा दिए हैं।

यह भी पढ़ें : इस डिजायनर की उम्र आप सोच भी नहीं सकते

जेल में बंद है बाबा राम रहीम

गौरतलब है कि डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम को दो साध्वियों के साथ बलात्कार के मामले में सीबीआई की विशेष अदालत ने 20 साल की सजा सुनाई है। सजा के बाद से बाबा गुरमीत राम रहीम रोहतक की सुनरिया जेल में बंद है। बता दें कि सीबीआई अदालत द्वारा गुरमीत राम रहीम को बलात्कार का दोषी करार दिए जाने के बाद हरियाणा सहित पांच राज्यों में हिंसा फेल गई थी। हिंसा में करीब 35 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 300 से ज्यादा घायल हुए थे। कई मीडिया कर्मियों की ओबी वैन तोड़ दी गई थीं। हिंसा के बाद हाई कोर्ट ने राज्य सरकार को करारी फटकार लगाई थी।

यह भी पढ़ें : देखें वीडियो : मारिया कैरी का कमरा अंतर्वस्त्रों से पटा पड़ा


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *