इलाहाबाद की रिटा. प्रोफेसर से 98 लाख की ठगी, दो गिरफ्तार

इलाहाबाद की रिटा. प्रोफेसर से 98 लाख की ठगी, दो गिरफ्तार



लखनऊ। यूपी स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) ने सोमवार को गौतमबुद्धनगर के नोएडा सेक्टर तीन से बीमा के नाम पर फर्जी आरबीआई अधिकारी व इनकम टैक्स अधिकारी बनकर लोगों को झांसा देकर फर्जी तरीके से 98 लाख रुपए जमा कराने वाले ठग गिरोह के मास्टर माइंड सहित दो आरोपियों को गिरफ्तार किया है।

यह भी पढ़ें : गैंगरेप मामले में दरोगा व डयूटी मुंशी निलम्बित

नोएडा से किया गया गिरफ्तार

पुलिस उपमहानिरीक्षक/वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक मनोज तिवारी ने बताया कि साइबर टीम की मदद से अपर पुलिस अधीक्षक त्रिवेणी सिंह की टीम को नितिन गौड़ और मंगल पाल का पता चला। जांच में पता चला कि दोनों गौतमबुद्ध नगर में एसबी इंश्योरेन्स ब्रोकर कम्पनी में कार्यरत है, जिसके बाद लखनऊ मुख्यालय से टीम रवाना हुई और सोमवार को मुखबिर की सूचना के आधार पर नोएडा के सेक्टर-3 से डी-2, के पास से दोनों को गिरफ्तार कर लिया, जिनके पास से दो मोबाइल,  छह बैंकों के बैंक एकाउंट सम्बन्धी अभिलेख और कई कम्पनियों का डेटा बरामद हुआ।

यह भी पढ़ें : इस डिजायनर की उम्र आप सोच भी नहीं सकते

अन्य डेटा वेंडरों का पर्दाफाश

पूछताछ पर गिरोह के सरगना नितिन गौड़ ने बताया कि मेरे द्वारा विगत कई वर्षों से इंश्योरेन्स ब्रोकर कम्पनियों में कार्यरत रहते हुए डाटा लेकर अपना नाम बदलकर लाइफ इंश्योरेंस की पॉलिसी में बोनस देने व मैच्युरिटी का पैसा दिलाने के नाम पर फर्जी कालिंग करते व कराते हैं एवं इन्श्योरेंस के नाम पर ठगी कराते हैं। यह भी बताया कि वे पंकज शाक्य के द्वारा उपलब्ध कराए गए विभिन्न बैंक खातों में भी रुपए जमा कराते थे। पुलिस उपमहानिरीक्षक ने बताया कि अब तक की जानकारी के अनुसार कुछ डेटा वेंडरों का भी पता चला है, जो विभिन्न इंश्योरेन्स कम्पनियों के डाटा उपलब्ध कराते हैं। दोनों गिरफ्तार ठगबाजों के खिलाफ आगे की कार्यवाही इलाहाबाद क्राइम ब्रांच की साइबर क्राइम सेल कर रही है।

यह भी पढ़ें : वो तड़प-तड़प कर मरती रही, सभ्य समाज करता रहा चित्रकारी!

बोनस और मैच्युरिटी के नाम पर करते हैं धोखाधड़ी

बता दें कि दरअसल पकड़े गए ठगबाजों नितिन गौड़ उर्फ राहुल कश्यप और मंगल पाल उर्फ राजीव शुक्ला ने बोनस देने व मैच्योरिटी का पैसा दिलाने के नाम पर फर्जी आरबीआई अधिकारी व इनकम टैक्स अधिकारी बनकर इलाहाबाद की रिटायर्ड प्रोफेसर शैल कुमारी पांडेय को कई तरह का लालच दिया। फिर गई बीमा कम्पनियों की 31 पॉलिसी विभिन्न ब्रोकर कम्पनियों से कराने की बात कर 55 लाख रुपए की पॉलिसी करा ली। साथ ही 43 लाख रुपए फर्जी तरीके से निजी खातों में जमा कराकर रिटायर्ड प्रोफेसर से कुल 98 लाख रुपए की ठगी कर ली। ठगी का पता चलने पर रिटा. प्रो. शैल कुमारी ने रिपोर्ट दर्ज कराई। मामले की जांच एसटीएफ को सौंपी गई।

यह भी पढ़ें : जानिए कितनी है दीपिका और प्रियंका चोपड़ा की कमाई


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *