सरकार क्या लोगों के बच्चे भी पाले: मुख्यमंत्री योगी

सरकार क्या लोगों के बच्चे भी पाले: मुख्यमंत्री योगी



लखनऊ। गोरखपुर का बीआरडी अस्पताल मासूम बच्चों की कब्रगाह बनता जा रहा है। ऑक्सीजन की कमी से इतर अन्य बच्चों की मौत इंफेलाइटिस समेत अन्य बीमारियों की वजह से हुई है। मासूमों की मौत पर उठ रहे सवालों के बीच प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने जनमानस को बेहद आहत करने वाला बयान दे दिया है।

लोगों को अपनी भी जिम्मेदारी समझनी चाहिए

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ राजधानी लखनऊ में एक कार्यक्रम को सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि लोगों की सोच काफी गैर जिम्मेदाराना हो गई है। लोगों को अपनी भी जिम्मेदारी समझनी चाहिए। योगी ने कहा कि उन्हें लगता है कि कहीं ऐसा न हो कि लोग अपने बच्चों को भी दो साल का होने पर उनका पालन पोषण सरकार के भरोसे छोड़ दें।  सरकार बच्चों का पालन पोषण करे। हर काम के लिए लोगों को सरकार के भरोसे नहीं रहना चाहिए।

वहीं इससे पहले मुख्यमंत्री योगी ने बनारस दौरे के दौरान कहा था कि स्वाइन फ्लू नाम की बीमारी का हौवा सिर्फ लोगों ने बना रखा है। यह सिर्फ मुख्यमंत्री ही  नहीं भाजपा सरकार के स्वास्थ्य मंत्री भी कुछ ऐसा ही कह चुके हैं। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह ने गोरखपुर में ही बच्चों की मौत के लिए अगस्त माह को ही जिम्मेदार करार दिया था। जबकि हद तो तब हो जाती जब बीआरडी कालेज के नवनियुक्त प्राचार्य भी स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह की बातों को ही आगे बढ़ाते हैं। बीते 72 घंटे के दौरान हुई 61 बच्चों की मौत पर बीआरडी अस्पताल के प्रिंसिपल पीके सिंह ने कहा इस मौसम में हर साल यही हाल होता है।

अखिलेश का योगी पर वार गोरखपुर में हिंदू बच्चे मरे, आपने क्या कर लिया?

आजमगढ़ के दौरे पर गए समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष एवं प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बुधवार को एक रैली में कहा कि गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज में बच्चों की जान जा रही है।

उन्होंने मुख्यमंत्री योगी को निशाने पर लिया। कहा कि आपके (योगीजी) गोरखपुर में सबसे ज्यादा हिंदू बच्चे मरे हैं, आप बताओ कि आपने क्या कर लिया? अखिलेश ने यह भी कहा कि जब समाजवादी पार्टी के लोग इनकी मदद करने जाते थे तो आरोप लगाए जाते थे कि हिंदू मरे हैं कि मुसलमान?

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्री योगी बोले, किसानों की कर्जमाफी उपकार नहीं, अधिकार

यह भी पढ़ें:  …तो इसलिए मुख्यमंत्री योगी को झेलनी पड़ रही है शर्मिंदगी

यह भी पढ़ें:  आरटीआई में खुलासा: मुख्यमंत्री के ओएसडी पद के लिए निर्धारित नहीं है कोई नियमावली

 


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *