लॉकडाउन: गरीब बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रहा सपा का ये कार्यकर्ता

लॉकडाउन: गरीब बच्चों में शिक्षा की अलख जगा रहा सपा का ये कार्यकर्ता



Jaunpur. तस्वीर में जिसे आप एक कुटिया में लाल रंग की पगड़ी बांधे और पुराने लिबास में धोती कुर्ता पहने हुए देख रहे हैं, वो कोई और नहीं, बल्कि समाजवादी पार्टी के बूथ लेवल के कार्यकर्ता ऋषि यादव हैं। ऋषि यादव उत्तर प्रदेश के जौनपुर के धर्मापुर ब्लॉक के एक छोटे से गांव मोहिउद्दीनपुर के निवासी हैं।

कोरोना वायरस महामारी को लेकर देश में हुए लॉकडाउन के बाद से ऋषि लगातार समाजसेवा में लगे हुए हैं। इनकी समाजसेवा से पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव स्वयं इतना प्रभावित हो गए थे कि उन्होंने उनकी तस्वीर को सोशल मीडिया पर खुद शेयर किया था। अब ऋषि यादव अपने नेता की तारीफ करते भी नहीं थकते हैं। उन्होंने कहा कि नेता जी ने उन्हें जो आदेश दिया है, उसका वह पालन कर रहे हैं।

ऋषि ने कहा कि वह खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं कि उनके नेता की वजह से ही उन्हें समाजसेवा का मौका मिला है। इसलिए वह इस पुनीत कार्य को लगातार जारी रखे हुए हैं। ऋषि ने समाजसेवा को ही अपनी दिनचर्या का हिस्सा बना लिया है। सुबह उठते ही वह गरीब बच्चों को प्रतिदिन दूध, बिस्कुट और फल बांटते हैं। यही नहीं, उन्होंने कई परिवारों को गोद भी ले रखा है, अब उनकी पूरी जिम्मेदारी भी उठा रहे हैं।

लॉकडाउन के कारण सरकारी स्कूलों के बंद होने के बाद ऋषि यादव ने बच्चों की शिक्षा अनवरत जारी रहे, इसके लिए एक पहल शुरू की है, जिसकी काफी सराहना मिल रही है। ऋषि यादव ने गांव के बाहर एक समाजवादी कुटिया बनाई है, जहां बच्चों दूध, फल और बिस्कुट खिलाते हैं। इसके साथ ही उन्हें शिक्षित भी कर रहे हैं।

ऋषि यादव प्रतिदिन क्षेत्र के बच्चों को अपनी कुटिया पर ही पढ़ाते हैं, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग का भी पूरी तरह से पालन कर रहे हैं। ऋषि यादव ने कहा कि वह बाबा साहेब भीमराव अम्बेडकर, राम मनोहर लोहिया के सपनों को आगे बढ़ा रहे हैं।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *