'ग्लोबल हैंड वाशिंग डे’ आज, हाथ धोने के लिए जरूर दें 20 सेकेंड का समय

‘ग्लोबल हैंड वाशिंग डे’ आज, हाथ धोने के लिए जरूर दें 20 सेकेंड का समय



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

Lucknow. विश्वस्तर पर 15 अक्टूबर को ‘ग्लोबल हैंड वाशिंग डे’ (global handwashing day 2019) मनाया जाता है। हर साल इस खास दिन की कोई न कोई थीम होती है। इस बार की थीम “सभी के लिए स्वच्छ हाथ“ है। इस दिवस का उद्देश्य लोगों को साबुन से हाथ धोने के प्रति जागरूक करना है, क्योंकि यह बीमारियों से सुरक्षित रहने का आसान, प्रभावी और किफायती तरीका है। हाथ धोना हर तरह की कसरत से ज्यादा अहम है। बचपन में यह बात स्कूल में सिखाई जाती है कि समय समय पर हाथ धोने चाहिए। घर में इसे अमल में लाने के लिए कहा जाता है। बच्चों की किताबों में इसे तस्वीरों और कार्टूनों के माध्यम से हाथ धोने की अहमियत समझाई जाती है, लेकिन जवान होते होते बहुत से लोग हाथ धोना भूलने लगते हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (World health organization) की रिपोर्ट के अनुसार, आंख और नाक के कई संक्रमण सिर्फ हाथों में फंसी गन्दगी की वजह से होते हैं, पेट की कई बीमारियां गंदे हाथ के मुंह में जाने से होती हैं। स्वाइन फ्लू के फैलाव को रोकने के लिए जगह-जगह बोर्ड लगाकर अपील की जाती है कि लोग हाथ मुंह और आँखें समय-समय पर धोते रहें। इस बारे में विश्व स्तर पर जागरूकता फ़ैलाने के उद्देश्य से ग्लोबल पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप फॉर हैंडवाशिंग’ द्वारा 15 अक्टूबर 2008 को प्रथम ‘ग्लोबल हैंड वाशिंग डे’ को मनाया गया। इस दिन 70 से अधिक देशों के 120 मिलियन से अधिक बच्चों ने साबुन से हाथ धोया और इस दिवस की शुरुआत की। इसे आयोजित करने वाली संस्था भारत सहित दुनिया  के 150 देशों में अभियान भी चला रही है। बच्चों को जागरूक करने के लिए सचिन तेंदुलकर, अक्षय कुमार, विद्या बालन, अमिताभ बच्चन जैसे नमी गिरामी हस्तियां इस मुहिम से जुड़ रही हैं। हाथों की सफाई इतनी अहम है कि भारत में स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोग एक दूसरे से हाथ मिलकर हेलो करने से परहेज करने लगे हैं।

हाथों को साफ करने का सही तरीका

– हाथ हमेशा मेडिकेटेड साबुन (medicated soap) से ही साफ करें। हाथ कम से कम 20 सेकेंड तक धोना चाहिए, तभी इसमें मौजूद हानिकारक बैक्टीरिया मरते हैं।

– हाथों को पानी से गीला करें। साबुन लगाने के बाद लगभग 20 सेकंड तक हाथों के नाखूनों, हथेलियों के सभी पोर्स, कोने को अच्छी तरह से रगड़ें। कलाई, उंगलियों के बीच, नाखूनों के नीचे अच्छी तरह से साबुन लगाकर रगड़ें। अब पानी से हाथों को धो लें।

– हाथों को गंदे तौलिए से ना पोछें फिर हाथ साफ करने का फायदा नहीं रह जाएगा। हमेशा साफ तौलिये का ही यूज करें। प्रत्येक दो दिन पर तौलिए को साफ करें।

– अल्कोहल बेस्ड हैंड सैनिटाइजर (alcohol based hand sanitizer)भी बेहतर ऑप्शन है पानी की जगह। सैनिटाइजर में 60 प्रतिशत अल्कोहल होना चाहिए। हथेली पर सैनिटाइजर लगाकर हथेलियों को गीला करें। अब हाथों को रगड़ें। हाथ ड्राई हो जाने के बाद रगड़ना बंद कर दें।

कब साफ करें हाथ

जब आप खाना खाने वाले हों और खाना खाने के बाद।
कोई भी किचन का काम करते समय खासकर भोजन पकाते समय।
फल और सब्जियों को काटने और खाने से पहले।
घर में यदि आपके कोई बीमार व्यक्ति है और उसकी देखभाल कर रहे हैं, तो हाथों को जरूर डेटॉल साबुन या मेडिकेटेड सोप से धोएं।
घाव साफ करने के बाद।
आंखों में कॉन्टैक्ट लेंस लगाने से पहले भी हाथ साफ कर लेना जरूरी है।

कब जरूर धोएं हाथ

भोजन बनाने के बाद। मांस-मछली साफ करने के बाद।
घर का कचरा, पालतू जानवर, पशु का चारा छूने के बाद।
शौचालय से आने के बाद और बच्चे का डायपर बदलने के बाद।
नाक साफ करने, खांसने-छींकने के बाद।
बाहर से आने के बाद

दूसरों के हाथ आपकी सेहत बिगाड़ने के लिए काफी  

भारत में घरों और स्कूलों में आमतोर पर खाना हाथों से खाया जाता है। मिड डे माल योजना के अंतर्गत लगभग 12.56 लाख स्कूलों के 12 करोड़ से अधिक भारतीय बच्चे एक साथ हाथों से खाना खाते हैं। अगर हम शिक्षक बच्चों में सही ढंग से हाथ धोने के गुण विकसित करने में सफल होते हैं तो हम अपने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वस्थ भारत के सपने को जरूर साकार करने में सफल होंगे। कभी कभी दूसरों के हाथ आपकी सेहत बिगाड़ने के लिए काफी है। अगर आपके हाथ साफ हैं तो आपकी और दूसरों की सेहत के लिए बेहतर बात क्या होगी।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *