सीएम योगी ने किया बड़ा ऐलान, सरकारी खजाने से नहीं भरा जाएगा मंत्रियों का इनकम टैक्स

सीएम योगी ने किया बड़ा ऐलान, सरकारी खजाने से नहीं भरा जाएगा मंत्रियों का इनकम टैक्स



Lucknow. प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को बड़ा ऐलान कर दिया है। सीएम योगी ने कहा कि मुख्यमंत्री और मंत्रियों का इनकम टैक्स अब सरकारी खजाने से नहीं भरा जायेगा, सम्बंधित व्यक्ति अपनी सम्पत्ति से ही भरेगा। बता दें कि प्रदेश में पिछले 38 सालों से मुख्यमंत्रियों और मंत्रियों के इनकम टैक्स भरे जा रहे हैं, जिसे अब योगी सरकार खत्म करने जा रही है।

प्रदेश की वीपी सिंह सरकार के दौरान उत्तर प्रदेश मिनिस्टर्स सैलरीज, अलाएउंसेज एंड मिसेलनियस एक्ट, 1981 यह कहते हुए बनाया गया था कि मुख्यमंत्री और मंत्री अपनी कम आमदनी से इनकम टैक्स नहीं भर सकते हैं। इस एक्ट में कहा गया है कि सभी मंत्री और राज्य मंत्रियों को पूरे कार्यकाल के दौरान प्रतिमाह एक हजार रुपये सैलरी मिलेगी और उपमुख्यमंत्री को 650 रुपये मिलेंगे। इसमें यह भी कहा गया कि वेतन टैक्स देनदारी अलग है और टैक्स का भार सरकार उठायेगी।

वीपी सिंह की सरकार के बाद प्रदेश में कई मुख्यमंत्री बदले, लेकिन यह कानून अपनी जगह कायम रहा। इस कानून को हटाने के लिए किसी ने कोई प्रयास तक नहीं किया है। यहीं नहीं, इस कानून के अस्तित्व में आने के बाद करीब 1000 से अधिक अलग-अलग दलों के नेता मंत्री भी बन चुके हैं, लेकिन अब मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस कानून को खत्म करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि सरकार किसी भी मंत्री का आयकर नहीं भरेगी, उन्हें अपनी ही सम्पत्ति से देना होगा।

वहीं, प्रदेश प्रमुख सचिव (वित्त) ने भी स्वीकार किया कि 1981 के कानून के तहत की मुख्यमंत्री और मंत्रियों को टैक्स राज्य सरकर की ओर से भरा गया है। बता दें कि योगी सरकार के दो साल के कार्यकाल के दौरान सरकार खजाने से मुख्यमंत्री और मंत्रियों का कुल 86 लाख रुपये का इनकम टैक्स भरा गया है।

यह भी पढ़ें…

अधीक्षण अभियंता के बिना उपभोक्ता परेशान, अधिकारियों की मौज

समाजवादी पार्टी ने शिवपाल सिंह यादव के खिलाफ उठाया बड़ा कदम, विधानसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र

खीरी: बदमाशों ने कैशियर को मारी गोली, लूटे 7.75 लाख रुपए

बसपा की नीतियों से असंतुष्ट 17 नेताओं ने थामा समाजवादी पार्टी का दामन


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *