सावधान! डॉक्टर साहब अभी निजी प्रैक्टिस पर हैं, थोड़ी देर बाद आएंगे!

सावधान! डॉक्टर साहब अभी निजी प्रैक्टिस पर हैं, थोड़ी देर बाद आएंगे!



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

लखीमपुर,खीरी। प्रदेश की योगी सरकार आम नागरिकों को सूबे में अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएं और सस्ता इलाज व दवाएं उपलब्ध कराने को संकल्पित है, लेकिन चिकित्सक सरकार के मंसूबों पर पानी फेरकर अपनी जेबों को भरने का काम कर रहे हैं। चिकित्सक सरकारी अस्पताल में मरीजों को देखने के बजाय प्राइवेट प्रैक्टिस को अधिक महत्व दे रहे हैं। प्राइवेट प्रैक्टिस के चलते सरकारी अस्पताल के चिकित्सक ओपीडी में घंटों देर से आते हैं, जिस वजह से मरीजों को घंटों लाइन में इंतजार करना पड़ रहा है। लखीमपुर खीरी के गोला गोकर्णनाथ के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में कुछ इसी तरह का हाल है।

प्रदेश की योगी सरकार भले ही ग्रामीणों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करने की बात कर रही हो, लेकिन सरकार की मंशा पर स्वास्थ्य विभाग के डॉक्टर पलीता लगाते दिख रहे हैं। अस्पताल के जिम्मेदार अधिकारियों की लापरवाही के कारण अस्पताल की ओपीडी कई बार सूनी पड़ी रहती है।पत्रकारों की टीम मंगलवार को सुबह साढे 8 बजे सीएचसी पहुंचकर यहां जायजा लिया तो ओपीडी नंबर चार में डा. अजय वर्मा मौजूद मिले। इसके अलावा कोई भी डाक्टर ओपीडी नहीं था।

वहीं, इनेस्थिया के डाक्टर राजेंन्द्र कुमार 8.36 मिनट पर, बाल सीएचसी अधीक्षक व बालरोग विशेषज्ञ डा. कुलदीप आदिम 8.44 बजे अस्पताल पहुंचे, जबकि डा. एसडी गोस्वामी, दंत रोग विशेषज्ञ डा. सुशील आदिम, महिला रोग विशेषज्ञ डॉ. रूपसी सलूजा, डीएच पर तैनात जुनैल अस्पताल नहीं पहुंचे थे। इससे सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है कि मरीजों को मूलभूत सुविधाएं मुहैया कराने में कितने संजीदा हैं।

जब अधीक्षक ही देर से आये तो मातहत जल्दी क्यों आयें!

जब अधीक्षक देर से आ रहे हैं तो उनके मातहत डाक्टर व कर्मचारियों की मौज है, सीएचसी में इन दिनों उमस भरी गर्मी व बरसाती मौसम के चलते सीजनल बीमारियों का दौर चल रहा है और सुबह से जल्दी दिखाने के कारण महिला, पुरूष और बच्चे सैकडों की संख्या में आ रहे हैं, लेकिन यहां अधीक्षक की लापरवाही के चलते स्टाफ समय से आना उचित नहीं समझते। इसके कारण मरीज और उनके तीमारदारों को कई कई घंटे इन्तजार करना पड़ रहा है। मंगलवार को प्रभारी अधीक्षक डॉ. कुलदीप आदिम खुद लगभग पौन घंटे देर से पहुंचे थे।

मरीजों ने सुनाई अपबीती

इलाज के लिए आए मरीज दिलीप कुमार ने बताया कि उसके हाथ में फैक्चर हो गया था। डा. कौशल के पास उसका उपचार चल रहा था, उसे एक घंटा डॉक्टर का इंतजार करते हो गया, लेकिन अभी तक ओपीडी में नहीं पहुंचे। दिलीप ने बताया कि अस्पताल में जब उसने पूछा कि डॉक्टर अभी तक क्यों नहीं आए तो उससे बताया गया कि प्राइवेट क्लीनिक पर जाकर दिखा सकते हो।

वहीं, कुरैया लोहरना निवासिनी विमल की पत्नी पूनम देवी ने बताया कि वह महिला डाक्टर रूपसी सलूजा को दिखाने आई थी, लेकिन एक घंटा इन्तजार करने के बाद अभी तक नहीं आई हैं। थाना नीमगांव के ग्राम अहिरी निवासी संदीप बैक्सीन लगवाने आया था। इसके अलावा पश्चिमी दीक्षिताना निवासी राधा देवी, राजेश कुमार, रूपशीला देवी आदि भी मरीज भी इन्तजार करते मिले, लेकिन चिकित्सक नहीं थे।

डाक्टर का इंतजार करता राह वृद्ध मरीज

मोहल्ला मुन्नूगंज निवासी 90 वर्षीय हासिम अली ने बताया कि उन्हें सांस लेने में परेशानी हो रही थी। सुबह दवाई लेने आये थे, लेकिन डाक्टर ही नहीं मिले।

सेटिंग कर निजी प्रैक्टिस पर दे रहे ध्यान

अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि अस्पताल के अधिकतर डॉक्टर्स निजी प्रैक्टिस पर ज्यादा ध्यान दे रहे हैं। शहर में कमरा लेकर अपना खुद का क्लीनिक खोल रखा है, वहां उनकी तगड़ी फीस भी निर्धारित है। ऐसे में डॉक्टर अस्पताल की ड्यूटी छोड़कर अपनी निजी प्रैक्टिस पर अधिक ध्यान दे रहे हैं और गरीब लोग उन्हीं के हांथों लुट रहे हैं। आलम यह है कि अस्पताल में दिखाने आए मरीज को घर पर देखने की सलाह देकर पर्ची पकडा दी जाती है, जहां धरती के भगवान कहे जाने वाले यह सरकारी डाक्टर मरीजों की जांच व महंगी दवाईयों के नाम पर जमकर शोषण कर रहे हैं।

इस बारे में जब मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. मनोज अग्रवाल से बात की गई तो उन्होंने कहा कि ओपीडी में डाक्टरों के लेट पहुंचने का मामला संज्ञान में आया है, इसकी जांचकर कार्यवाही की जायेगी।

यह भी पढ़ें …

मोदी सरकार को बड़ी कामयाबी, राज्यसभा में भी पारित हुआ तीन तलाक विधेयक

प्रियंका गांधी बन सकती हैं कांग्रेस की नई राष्ट्रीय अध्यक्ष, ये है वजह

वर्ल्ड टाइगर डे: बाघ के साथ हो रही मॉब लिंचिंग की घटनाएं चिंताजनक

उन्नाव गैंगरेप पीड़िता की कार को ट्रक ने मारी टक्कर, हालत गम्भीर, मां और चाची की मौत

समाजवादी पार्टी को लगा दूसरा बड़ा झटका, भाजपा कार्यकर्ताओं में खुशी का माहौल


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *