कर्नाटक: स्पीकर के फैसले से भाजपा सरकार में मचा हड़कम्प

कर्नाटक: स्पीकर के फैसले से भाजपा सरकार में मचा हड़कम्प



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

New Delhi. कर्नाटक में भारतीय जनता पार्टी की सरकार बनने के बाद राजनीतिक उठापटक दौर लगभग खत्म हो चुका है, हालांकि येदियुरप्पा सरकार का वजूद अब तलवार की धार पर है। इसकी वजह कर्नाटक के विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार का फैसला है। बता दें कि कर्नाटक में अभी येदियुरप्पा सरकार को बहुमत परीक्षण से गुजरना है, हालांकि इससे पहले स्पीकर की ओर से लिया गया फैसला काफी अहम माना जा रहा है।

दरअसल, कर्नाटक में बीते करीब 14 महीने पहले हुए विधानसभा चुनावों के बाद भाजपा नेता येदियुरप्पा ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी, हालांकि बहुमत परीक्षण से पहले ही उन्होंने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था।

इसके बाद कांग्रेस और जदएस ने सरकार बनाने का दावा पेश किया था। कांग्रेस ने जदएस नेता एचडी कुमारस्वामी को मुख्यमंत्री का पद आफर किया था। इसके बाद से ही प्रदेश में सियासी संकट बना हुआ था। आए दिन राजनीतिक विवाद देखने को मिला रहा था।

बीते 14 महीने से चला आ रहा संकट कांग्रेस और जदएस के 17 विधायकों के इस्तीफे के बाद से और गहरा हो गया था। इसके बाद बहुमत परीक्षण न साबित कर पाने के बाद कांग्रेस-जदएस की सरकार गिर गई थी और मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी को अपने पद से इस्तीफा देना पड़ा।

एचडी कुमारस्वामी के इस्तीफे के बाद कर्नाटक में एक बाद फिर मुख्यमंत्री के रूप में येदियुरप्पा ने ही शपथ ली है। हालांकि येदियुरप्पा सरकार का भी वजूद तलवार की धार पर नजर आ रहा है। इसकी वजह है कर्नाटक के विधानसभा अध्यक्ष रमेश कुमार का फैसला।

दरअसल, कर्नाटक के राज्यपाल रमेश कुमार ने 14 और विधायकों को अयोग्य करार दे दिया है। इससे पहले उन्होंने तीन विधायकों को अयोग्य करार दिया था। अब कुल मिलाकर 17 विधायकों को अयोग्य करार दिया गया था। कांग्रेस के 14 और जदएस के तीन विधायकों ने विधानसभा अध्यक्ष को इस्तीफा दिया था, लेकिन उन्होंने इस्तीफे को स्वीकार नहीं किया था।

कर्नाटक में 17 विधायकों के अयोग्य करार दिए जाने के बाद 224 सदस्यीय विधानसभा में अब 204 सदस्यीय हो गई है। इसलिए बहुमत का आंकड़ा 104 हो गया है। ऐसे में भारतीय जनता पार्टी के पास कुल 105 विधायक हैं। भाजपा के पास बहुमत से सिर्फ एक सदस्य ज्यादा है। ऐसे में भाजपा सरकार पर भी संकट मंडरा रहा है।

यह भी पढ़ें :

सीडब्लूसी की बैठक में होगा ये बड़ा फैसला, कांग्रेसी नेताओं की टिकीं निगाहें

अमित शाह ने किया बड़ा खुलासा, कहा- इसलिए योगी को बनाया गया यूपी का मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री कमलनाथ के भतीजे रतुल पुरी बाथरूम से अचानक हुए गायब, ये है बड़ी वजह

पूर्व सीएम शीला दीक्षित ने राहुल गांधी को लिखे अंतिम पत्र में कही थी ये बड़ी बात


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *