'अंधेरे' में स्वास्थ्य व्यवस्था, मोबाइल टार्च की रोशनी में इलाज कर रहे चिकित्सक

‘अंधेरे’ में स्वास्थ्य व्यवस्था, मोबाइल टार्च की रोशनी में इलाज कर रहे चिकित्सक



मंदीप वर्मा

Lucknow. प्रदेश के लखीमपुर खीरी के गोला गोकर्णणनाथ के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में तीसरे दिन भी बिजली का संकट बरकरार रहा। अस्पताल प्रशासन की लापरवाही का खामियाजा मरीजों, तीमारदारों और ओपीडी में बैठे चिकित्सकों को उठाना पड़ा। विभिन्न वार्डों अंधेरा कायम था, पंखे बंद थे, हर कोई गर्मी से बेहाल दिखा।

बुधवार की सुबह लखीमपुर रोड पर विद्युत विभाग द्वारा केबिल बदलने का कार्य किया जा रहा था, जिससे लगातार दिन और रात कई घंटों की कटौती की गई थी। इसके बाद गुरूवार को दोपहर में बिजली सप्लाई शुरू की गई थी। गुरूवार को विद्युत विभाग द्वारा केबिल बदलने का कार्य फिर शुरू कर दिया गया। जिससे सीएचसी वाले फीडर की दिन भर बिजली गुल रही।

इन दिनों भीषण गर्मी के चलते अस्पताल में रोज लगभग नए और पुराने मिलाकर एक हजार से अधिक मरीज पहुंच रहे हैं, इनको देखने की जिम्मेदारी भी डॉक्टरों पर है। वह भी बिजली की समस्या से जूझ रहे हैं।

आलम यह कि सुबह आठ बजे डॉक्टरों के ओपीडी में पहुंचते ही मरीजों की भीड़ टूट पड़ती है, सुबह 10 बजे के बाद स्थिति और बेकाबू होने लगती है जब ओपीडी में बैठे डॉक्टरों के कक्ष में मरीजों की लंबी लाइन लगी होती है और सभी पसीने से तरबतर दिखाई देते हैं।

शुक्रवार को बिजली कटौती होने पर सीएचसी अधीक्षक ने फिर जनरेटर नहीं चलाने की जरूरत नहीं समझी। जहां चिकित्सकों को ओपीडी मोबाइल की रोशनी में करनी पड़ी। कुछ मरीज और उनके तीमारदारों के साथ-साथ डॉक्टरों को भी हाथ वाले पंखे का सहारा लेना पड़ा।

सीएचसी अधीक्षक डा. कुलदीप आदिम ने कहा कि अस्पताल में जेनरेटर नहीं है, इनवर्टर बदलकर व्यवस्था सुधारने का प्रयास किया है। वहीं, सीएमओ डा. मनोज अग्रवाल ने कहा कि अस्पताल में जेनरेटर होने के बाद क्यों नहीं चला, इस बारे में दिखवाता हूं, नए जेनरेटर की मांग शासन से की गई है।

यह भी पढ़ें –

सपा के पूर्व विधायक के घर अंधाधुंध फायरिंग, सपाइयों में आक्रोश

जमीन कब्जे को लेकर दो पक्षों में खूनी संघर्ष, तीन महिलाओं सहित 11 लोगों की मौत

यूपी भाजपा अध्यक्ष बने स्वतंत्र देव सिंह, कार्यकर्ताओं ने किया खुशी का इजहार

समाजवादी पार्टी को राज्यसभा से लगा तगड़ा झटका, इस वरिष्ठ नेता ने दिया इस्तीफा


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *