चिकित्सकों की हड़ताल से प्राइवेट क्लीनिकों पर लटके रहे ताले, भटकते रहे मरीज

चिकित्सकों की हड़ताल से प्राइवेट क्लीनिकों पर लटके रहे ताले, भटकते रहे मरीज



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

गोला गोकर्णनाथ, खीरी। पश्चिम बंगाल में जूनियर डॉक्टरों पर हुए हमले के विरोध में इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के आवाहन पर प्राइवेट मेडिकल पैक्टीशनर्स के चिकित्सकों ने बैठक कर हडताल पर चले गये हैं, जिससे गंभीर इलाज के मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पडा।

पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में पिछले दिनों दो जूनियर डॉक्टरों की पिटाई के बाद शुरू हुई डॉक्टरों की हड़ताल ने अब देशव्यापी रूप अख्तियार कर लिया है। इस घटना को लेकर पूरे देश के डॉक्टरों में आक्रोश है। सोमवार को शहर के सभी हॉस्पिटल्स, नर्सिंग होम, क्लीनिक, दवाखाने, लेबोरेटरी, एक्स-रे सेन्टर बंद रहे।

जिसके चलते मरीजों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के भरोसे रहना पडा। जहां भारी भीड के चलते इन अस्पतालों में पैर रखने की भी जगह भी नहीं थी।

चिकित्सकों के हडताल पर रहने से मरीजों को परेशानी का सामना करना पडा। मरीज के तीमारदार सुबह से मरीज को लेकर शहर के विभिन्न अस्पतालों में भटकते नजर आये। मरीजों का कहना था कि पश्चिम बंगाल में जूनियर चिकित्सकों के साथ दुर्भाग्यपूर्ण घटनाएं हुई हैं। रोगियों का उपचार करने वालों के साथ ऐसा नहीं होना चाहिए।

डायग्नोस्टिक सेंटर भी रहे बंद

जूनियर डॉक्टरों पर हुए हमले के विरोध में चिकित्सकों के साथ डायग्नोस्टिक सेंटर भी हडताल में शामिल होने की वजह से मरीजों की जांचें भी नहीं हो पाईं। एक्सरे, अल्ट्रासाउंड, सहित विभिन्न प्रकार की जांच करवाने के लिए लोग परेशान नजर आए। सरकारी अस्पताल में समुचित व्यवस्था न होने के कारण मरीजों को भारी परेशानी का सामना करना पडा।

बंगाल की घटना की चिकित्सकों ने की निंदा

प्राइवेट मेडिकल पैक्टीशनर्स के चिकित्सकों ने संजीवनी हास्पिटल पर बैठक की। बैठक में डा. आशुतोष गुप्ता, डा. मुकेश वर्मा, डा. अश्वनी वर्मा, डा. डीएस मलिक, डा. सुर्य प्रकाश वर्मा, डा. एसपी वर्मा, डा. जगदीश वर्मा, डा. संजय वर्मा, डा. शफीक अहमद, डा. रामनरेश वर्मा, डा. रामसिंह वर्मा, डा. डीएन पुरवार, जसपाल सिंह, डा. रियाल अहमद आदि ने बंगाल में हुई घटना की घोर निंदा की और दौरान चिकित्सकों ने बताया कि ने बताया कि हडताल के दौरान इमरजेंसी सेवाएं चलती रहेंगी, लेकिन ओपीडी बंद रहेगी।

सीएचसी की ओपीडी में हुआ इजाफा

प्राइवेट अस्पताल बंद होने से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र की ओपीडी में इजाफा हो गया। सामान्यतः सीएचसी में ओपीडी इन दिनों तीन सौ के आसपास रहा करती थी। सोमवार को यह ओपीडी 435 पर पहुंच गई जबकि एक दिन पूर्व की ओपीडी 319 रही। जिसमें 116 मरीजों की संख्या में इजाफा हुआ है।

यह भी पढ़ें…

युवती ने अपने ही प्रेमी पर फेंक दिया एसिड, वजह जान हैरान रह जाएंगे आप

योगी सरकार की बर्खास्तगी की मांग को लेकर कलक्ट्रेट पहुंचा कॉन्स्टेबल, डीजीपी ने उठाया ये बड़ा कदम

जानिये क्यों धधकने लगी थी जमीन, जांच में आई ये बड़ी बात सामने

पति करता था परेशान, पत्नी ने प्रेमी संग मिलकर उठाया खौफनाक कदम


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *