समाजवादी पार्टी के लिए कहीं मुसीबत न बन जाए सरप्राइज फैक्टर

समाजवादी पार्टी के लिए कहीं मुसीबत न बन जाए सरप्राइज फैक्टर



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

Lucknow. लोकसभा चुनाव 2019 के लिए चार चरणों में मतदान हो चुका हैं। पांचवें चरण के मतदान के लिए आज चुनाव प्रचार थम जाएगा, लेकिन सियासी सरगर्मी और तेज हो रही है। इस बीच समाजवादी पार्टी के सरप्राइज फैक्टर को लेकर चर्चा जोरों से शुरू हो गई है। समाजवादी पार्टी की प्रत्याशी शालिनी यादव को फिर से उम्मीदवार बना दिया है। हालांकि इससे पहले बर्खास्त बीएसफ जवान तेजबहादुर को प्रत्याशी घोषित कर सपा ने सरप्राइज दिया था, लेकिन ये सरप्राइज अब समाजवादी पार्टी के लिए कहीं मुसीबत न बन जाए।

लोकसभा चुनाव के सातवें यानि अंतिम चरण में जिन 13 सीटों पर चुनाव होना है, उनमें आठ सीटों पर समाजवादी पार्टी और पांच सीटों पर बहुजन समाज पार्टी ने अपने उम्मीदवार उतारे हैं। समाजवादी पार्टी की आठ सीटों में से चार सीटें ऐसी हैं, जो चर्चा का विषय है। समाजवादी पार्टी ने चार में से दो सीटों पर नामांकन के अंतिम दौर में प्रत्याशी बदलकर सरप्राइज दिया, जबकि दो अन्य सीटों पर नामांकन के अंतिम दिन प्रत्याशी घोषित किए गए।

कांग्रेस पार्टी छोड़कर समाजवादी पार्टी में शामिल हुई शालिनी यादव को वाराणसी से टिकट दिया गया, लेकिन नामांकन के अंतिम दिन पार्टी ने प्रत्याशी बदल दिय। यहां से बीएसफ के बर्खास्त कर्मचारी तेजबहादुर यादव को मैदान में उतारा, लेकिन उनका नामांकन खारिज हो गया। इसके बाद शालिनी यादव को फिर से उम्मीदवार बना दिया। इस घटनाक्रम को पार्टी में गतिरोध की स्थिति बन गई है।

वहीं, मिर्जापुर लोकसभा सीट से समाजवादी पार्टी ने पहले राजेश एस. बिंद को अपना प्रत्याशी घोषित किया, लेकिन नामांकन से पहले ही भाजपा छोड़कर सपा में शामिल हुए राम चरित्र निषाद को मैदान में उतार दिया। ऐसे में यहां भी गतिरोध का सामना करना पड़ सकता है।

इसके अलावा महाराजगंज और बलिया लोकसभा सीट से नामांकन के अंतिम दिन सिर्फ एक दिन पहले प्रत्याशी घोषित किए गए। इसे लेकर आखिरी दौर तक असमंजस की स्थिति देखी गई।

वहीं, राजनीतिक विश्लेषकों की मानें तो समाजवादी पार्टी को इन चारों सीटों पर नुकसान हो सकता है। माना जा रहा है कि जब प्रत्याशी के नाम का अंतिम दौर में ऐलान किया जाएगा तो उसे प्रचार करने का समय नहीं पाता है।

इसके अलावा प्रत्याशी के बदले जाने पर पार्टी में गतिरोध की स्थिति पैदा होती है, जिससे नुकसान उठाना पड़ा सकता है।

यह भी पढ़ें….

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी माना, पीएम मोदी हैं ताकतवर

शिवपाल के बयान से सियासी भूचाल, अखिलेश को लेकर कही ये बड़ी बात

प्रधानमंत्री पद ​के उम्मीदवार को लेकर अखिलेश यादव का बड़ा बयान

युवती से गैंगरेप का अश्लील वीडियो वायरल, दो गिरफ्तार


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *