अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर उतरेंगे अधिवक्ता, ये हैं मांगें

अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर उतरेंगे अधिवक्ता, ये हैं मांगें



Lucknow. बार काउंसिल ऑफ इंडिया और स्टेट बार एसोसिएशन मिलकर मंगलवार को देशव्यापी हड़ताल करने जा रही है। यानी मंगलवार को हर राज्य के हर जिले में मौजूद बार एसोसिएशन के दफ्तर पर प्रदर्शन होगा। राजधानी लखनऊ में भी संयुक्त बार एसोसिएशन के वकीलों के कल्याण के लिए निम्न मांगों के समर्थन में 12 फरवरी को ग्लोब पार्क चौराहे से गांधी प्रतिमा, हजरतगंज तक पैदल मार्च तथा गांधी प्रतिमा पर 30 मिनट के धरने का निर्णय लिया गया है।

सेंट्रल बार एसोसिएशन लखनऊ के अध्यक्ष आदेश कुमार सिंह ने प्रेस क्लब में पत्रकार वार्ता में बताया कि अधिवक्ताओं की मागों के समर्थन में एकजुट होकर विरोध प्रदर्शन करेंगे। अधिवक्ताओं की मांग है कि सभी बार एसोसिएशन को पर्याप्त भवन, वकीलों को बैठाने के लिए चैम्बर, पक्षकारों के बैठने के लिए समुचित व सुविधाजनक स्थान, अधिवक्ताओं के लिए लाइब्रेरी, ई-लाइब्रेरी (इंटरनेट सुविधा सहित) तथा पुरुष/महिला वकीलों व समुदाय के कल्याण के लिए 5000 करोड़ रुपए का वार्षिक बजटीय प्रावधान किया जाना चाहिए।

क्या प्रियंका गांधी के सहारे नैया पार करेगी कांग्रेस ?

इसके अलावा वकीलों व उनके परिजनों के लिए बीमा कवर, नए वकील को पांच साल तक 10,000 रुपए मासिक मानदेय, असमय मृत्यु (दुर्घटना या बीमारी के कारण) की स्थिति में आर्थिक सुरक्षा की व्यवस्था, सरकार द्वारा सस्ते दाम पर अधिवक्ताओं के लिए आवासीय भूखंड उपलब्ध कराना, विधिक सेवा अधिकरण की सारी गतिविधियों न्यायिक अधिकारी के बजाय अधिवक्ताओं द्वारा सम्पादित की जाए, विभिन्न ट्रिब्यूनल, आयोग/ फोरम में न्यायिक अधिकारियों/ सेवानिवृत न्यायाधीश के बजाय अधिवक्ताओं की नियुक्ति किये जाने का प्रावधान व अधिनियम में तदनुसार संशोधन किये जाने की मांग की गई है।

बार कौंसिल उत्तर प्रदेश के सदस्य जानकी शरण पाण्डेय, प्रदीप कुमार सिंह, जय नारायण पाण्डेय, प्रशांत सिंह अटल, सेंट्रल बार एसोसिएशन लखनऊ के अध्यक्ष आदेश कुमार सिंह, महासचिव संजीव पाण्डेय, अवध बार के अध्यक्ष शहरी आनंद मणि त्रिपाठी व महासचिव बालकेश्वर श्रीवास्तव और लखनऊ के अन्य बार के अध्यक्ष व महासचिव एवं पदाधिकारियों ने देश के अधिवक्ताओं की मांगों के समर्थन में एकजुट होने तथा कल के राष्ट्र व्यापी आन्दोलन को सफल बनाने की मांग की गई।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने गठबंधन तोड़ इस दल से मिलाया हाथ


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *