क्या प्रियंका गांधी के सहारे नैया पार करेगी कांग्रेस ?

क्या प्रियंका गांधी के सहारे नैया पार करेगी कांग्रेस ?



Lucknow. आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर सियासी संग्राम शुरू हो गया है। कांग्रेस ने भारतीय जनता पार्टी को घेरने के लिए पूरी तरह से रणनीति तैयार कर ली है। कांग्रेस ने इसकी शुरूआत उत्तर प्रदेश से शुरू कर दी है। दरअसल, कांग्रेस हाई कमान ने प्रियंका गांधी को पार्टी महासचिव बनाने के ​साथ पूर्व यूपी का प्रभारी बना दिया है। कांग्रेस अब प्रियंका के सहारे लोकसभा चुनाव की नैया पार करने में लग गई है। अब देखना ये होगा कि कांग्रेस कहां तक इसमें सफल होती है।

उत्तर प्रदेश में सियासी पारा सातवें आसमान पर है। यूपी में महागठबंधन की जुगत में लगी कांग्रेस को उस वक्त तगड़ा झटका लगा था, जब समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन के ऐलान कर दिया था। सपा—बसपा गठबंधन ने कांग्रेस को सिरे से नकार दिया था। इन दोनों दलों ने कांग्रेस के लिए रायबरेली और अमेठी की सिर्फ दो सीटें छोड़ दी थी। हालांकि इसके बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी यूपी में अकेले दम पर चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया था। यूपी में सियासी जमीन खो चुकी कांग्रेस किसी संजीवनी की तलाश में थी। कांग्रेस ने नया युवा चेहरा लाने के लिए दांव चल दिया। कांग्रेस हाई कमान ने प्रियंका गांधी वाड्रा को मैदान में उतार दिया। कांग्रेस ने ये दांव उस वक्त चला जब पार्टी में प्रियंका को लेकर मांग उठ रही थी। हालांकि कांग्रेस नेता काफी दिनों से प्रियंका लाओ, प्रियंका लाओ के नारे लगा रहे थे।

भगवान राम को लेकर भाजपा कर रही प्लानिंग, कांग्रेस ने चल दिया ये बड़ा दांव

कांग्रेस हाई कमान ने ऐन मौके पर प्रियंका गांधी को सियासी मैदान में उतार दिया है। प्रियंका गांधी के मैदान में आने के बाद से मीडिया में प्रियंका गांधी को कोई तुरूप का इक्का बता रहा है तो कोई प्रियंका गांधी में पूर्व प्रधानमंत्री एवं उनकी दादी इंदिरा गांधी की छवि देख रहा है। ऐसे में कांग्रेस कोई मौका नहीं छोड़ना चाहती है। प्रियंका गांधी के मैदान में आने से सियासी गलियारों में काफी चर्चा बनी हुई है। वहीं, ​प्रियंका गांधी भी पूरे जोश में नजर आ रहीं हैं। राजनीति में ऐलान होते ही प्रियंका गांधी सक्रिय हो गर्ई हैं। महासचिव बनाए जाने के बाद प्रियंका गांधी उत्तर प्रदेश के पहले दौरे पर आ रही हैं। प्रियंका गांधी कल यूपी दौरे पर है। प्रियंका गांधी यूपी में पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ लम्बी मैराथन बैठक करेंगी। इस दौरान पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया भी मौजूद रहेंगे।

यूपी कांग्रेस में भी अपने नए नेता को लेकर जोश नजर आ रहा है। बैठक को लेकर तैयारियां भी तेज हो गई है। कार्यकर्ताओं और नेताओं का पार्टी कार्यालय में जमावड़ा लग गया है। कांग्रेस भी प्रियंका गांधी को इंदिरा गांधी के रूप में पेश करने में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी। अब ये देखना होगा कि प्रियंका गांधी कांग्रेस के लिए तुरूप का इक्का साबित होंगी या नहीं। प्रियंका के आने से क्या भारतीय जनता पार्टी को नुकसान होगा या नहीं। ये तो आने वाला समय ही बताएगा। हालांकि राजनीतिक पंडितों की मानें तो प्रियंका गांधी के कांग्रेस में आने से भाजपा और सपा—बसपा गठबंधन पर भी असर देखने को मिलेगा।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने गठबंधन तोड़ इस दल से मिलाया हाथ


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *