औरैया जाने से रोकने के बाद बोले अखिलेश, प्रदेश में जंगलराज कायम

औरैया जाने से रोकने के बाद बोले अखिलेश, प्रदेश में जंगलराज कायम



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

उन्नाव/लखनऊ। पूर्व मुख्यमंत्री एवं समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रदेश के मौजूदा हालात पर करारा प्रहार किया। उन्होंने योगी सरकार पर आरोप लगाया है कि उसके शासन में प्रदेश में जंगलराज कायम हो गया है। सच्चाई को दबाने की कोशिशें की जा रही हैं।

प्रदेश सरकार सच्चाई को दबाने की कर रही कोशिश

अखिलेश ने कहा कि वह और उनकी पार्टी पुलिसिया आतंक से डरकर घर में बैठने वाली नहीं हैं। सच्चाई को जनता के सामने रखेंगे और सडक़ों पर उतरकर संघर्ष करेगी। अखिलेश ने योगी सरकार पर यह भी आरोप लगाया है कि पंचायत चुनावों में भाजपा की जीत के लिए वो हर हथकंडे अपना रही है।

 बुधवार को औरैया में सपा कार्यकर्ताओं और पुलिस में हुई थी झड़प

औरैया में बुधवार को जिला पंचायत अध्यक्षी के नामांकन के दौरान भाजपा और सपा कार्यकर्ताओं की झड़प और उसके बाद स्थानीय पुलिस प्रशासन द्वारा सपा के पूर्व सांसद प्रदीप यादव सहित कई प्रमुख  नेताओं, कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज करने तथा उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था।

औरैया जा रहे अखिलेश को पुलिस ने लिया हिरासत में, छोड़ा

अखिलेश यादव पुलिस प्रशासन के इस बर्ताव के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने गुरुवार को औरैया जा रहे थे। उनके साथ सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम सहित पार्टी के कई एमएलए, एमएलसी एवं अन्य प्रमुख्य नेता भी औरैया के लिए लखनऊ से निकले थे। पर, उन्नाव जिले में ही अखिलेश और उनके काफिले को पुलिस प्रशासन ने राक लिया और उनको ओरैया जाने से रोक लिया। उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया और बाद में उन्हें रिहा कर दिया गया।

रिहा होने के बाद अखिलेश ने पत्रकारों से बातचीत की। उन्होंने कहा कि सरकार नहीं चाहती कि वह ओरैया जाएं और अपने कार्यकर्ताओं से मिलें। उनका आरोप था कि प्रदेश सरकार जनता से सच्चाई छिपाने के लिए ऐसा उन्हें रोक रही है। उन्होंने कहा कि औरैया में सरकार के इशारे पर स्थानीय पुलिस ने पूर्व सांसद और पूर्व विधायक पर झूठे मुकदमे लगाए गए हैं।

उन्होंने आरोप लगाया कि इन जनप्रतिनिधियों को पुलिस बीती पूरी रात एक थाने से दूसरे थाने लेकर घूमती रही। उन्होंने कहा कि जब वे अपने साथियों से मिलने जा रहे थे तो उन्हें हिरासत में ले लिया गया।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *