गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद और जातिवाद से मुक्त होगा प्रदेश: योगी

गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद और जातिवाद से मुक्त होगा प्रदेश: योगी



गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद और जातिवाद से मुक्त होगा प्रदेश: योगी

लखनऊ। प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि प्रदेश भी नए भारत की तरह श्रेष्ठ और स्वच्छ प्रदेश बनने के साथ ही गरीबी, भ्रष्टाचार, आतंकवाद, सम्प्रदायवाद तथा जातिवाद से मुक्त होगा।

उन्होंने जनता का आह्वान किया कि नए भारत व उत्तर प्रदेश के निर्माण के संकल्प की सिद्धि के लिए मन, वचन और कर्म से जुट जाएं, क्योंकि देश की प्रगति का रास्ता उत्तर प्रदेश से होकर जाएगा।

प्रदेश में परिवर्तन, विकास और गरीबों के सशक्तिकरण के लिए एक नए युग की शुरुआत कर दी है। उन्होंने बल देकर कहा कि भ्रष्टाचार के विरुद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति अपनायी जाएगी।

दुर्घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मंगलवार को 71वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर यहां विधान भवन के मुख्य द्वार पर ध्वजारोहण किया। उन्होंने कहा कि कोई घटना/दुर्घटना देश एवं समाज के लिए सबक हो सकती है, ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति को दृढ़ता के साथ रोकी जानी चाहिए। यह देश अनेकों बार संकटों से घिरा, लेकिन देशवासियों की प्रतिबद्धता से पुन: जीवंत होकर आगे बढ़ा। उन्होंने इस दौरान सन् 1857 के प्रथम स्वतंत्रता आंदोलन का उल्लेख भी किया। उन्होंने कहा कि इस पहले संयुक्त प्रयास से यह साबित हुआ कि एक प्रतिबद्ध समाज ब्रिटिश साम्राज्य जैसे सशक्त दुश्मन को भी नतमस्तक कर सकता है। उन्होंने कहा कि जीवन हताशा या निराशा का नहीं, बल्कि जीवंतता का नाम है।

यह भी पढ़ें : योगी सरकार का फरमान: स्वतंत्रता दिवस पर मदरसों में फहराएं तिरंगा, होगी वीडियोग्राफी

नए प्रदेश के निर्माण का लिया संकल्प

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा नए भारत के निर्माण के लिए दिए गए सूत्र में विकास के नित नए आयाम जुड़ रहे हैं। भारत दुनिया की सबसे बड़ी उभरती हुई अर्थव्यवस्था के रूप में आगे बढ़ रहा है। प्रधानमंत्री मोदी ने बीते नौ अगस्त को एक महत्वपूर्ण संकल्प लिया है। जिसके तहत वर्ष 2017 से वर्ष 2022 तक ‘संकल्प से सिद्धि’ तक अभियान चलाया जाएगा। प्रधानमंत्री की मंशा के अनुरूप वर्तमान प्रदेश सरकार ने भी जनता के सहयोग से वर्ष 2022 तक एक नए प्रदेश के निर्माण का गम्भीरता से प्रयास करने का संकल्प लिया है।

यह भी पढ़ें : एक्शन में मुख्यमंत्री योगी : 11 अफसरों को किया मौके पर सस्पेंड

70 वर्ष बाद भी प्रदेश में बुनियादी सुविधाएं नहीं
  • मुख्यमंत्री ने कहा कि स्वतंत्रता के 70 वर्ष बीत जाने के बाद भी प्रदेश की 22 करोड़ जनता को बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो पाई हैं।
  • वर्तमान राज्य सरकार ने पूरी प्रतिबद्धता एवं तन्मयता से प्रदेश के असहाय एवं गरीब लोगों तथा नौजवानों के कल्याण के लिए काम शुरू कर दिया है, जिससे गांव, गरीब एवं किसान व महिलाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार हो, उन्हें अच्छी बुनियादी सुविधाएं एवं सेवाएं मिल सकें।
  • आर्थिक कठिनाइयों के बावजूद राज्य सरकार ने लघु एवं सीमान्त किसानों के 31 मार्च, 2016 तक के एक लाख रुपए तक के फसली ऋण को माफ करने का ऐतिहासिक फैसला लिया।
  • कानून-व्यवस्था के मामले में प्रदेश सरकार की सोच स्पष्ट है कि दोषियों को छोड़ा नहीं जाएगा। यह सरकार महिलाओं की सुरक्षा एवं सम्मान के लिए पूरी तरह सजग है। वर्तमान राज्य सरकार पुलिसिंग को नई दिशा देते हुए प्रदेश में अमन-चैन कायम करने के लिए काम कर रही है।
  • योगी ने कहा कि कृषि, उद्योग सहित गुणवत्तापरक जीवन-यापन के लिए ऊर्जा की उपलब्धता अत्यन्त जरूरी है।
  • वर्तमान राज्य सरकार ने वीआईपी संस्कृति को समाप्त कर प्रदेश के सभी क्षेत्रों में पर्याप्त विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित की है। जनपद मुख्यालयों को 24 घंटे, तहसील मुख्यालयों को 20 घंटे तथा ग्रामीण क्षेत्रों में 18 घंटे विद्युत आपूर्ति की जा रही है।
  • राज्य सरकार बीपीएल परिवारों को मुफ्त बिजली कनेक्शन देने के साथ ही, पं. दीन दयाल ग्राम ज्योति योजना के अन्तर्गत 18 हजार मजरों में विद्युतीकरण का कार्य पूरा कराया गया। करीब सात लाख परिवारों को बिजली कनेक्शन दिए गए।
  • राज्य सरकार बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित करने के लिए कृतसंकल्पित है। इसीलिए सरकार ने ग्रेजुएशन स्तर तक की सभी बालिकाओं को निशुल्क शिक्षा दिलाने के लिए ‘अहिल्याबाई नि:शुल्क शिक्षा योजना’ संचालित करने का निर्णय लिया है।

यह भी पढ़ें : …तो इसलिए मुख्यमंत्री योगी को झेलनी पड़ रही है शर्मिंदगी

मुख्यमंत्री प्रदेशवासियों को दी बधाई

मुख्यमंत्री योगी ने 71वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर सभी प्रदेशवासियों को बधाई दी। उन्होंने कहा कि इस मौके पर वर्ष 2022 तक विकसित देश एवं प्रदेश बनाने का संकल्प लेना होगा। उन्होंने कहा कि सन् 1857 में स्वतंत्रता आंदोलन की शुरुआत उत्तर प्रदेश की धरती से ही हुई थी। आजादी की लड़ाई और देश की सीमाओं की रक्षा के लिए शहीद हुए सभी ज्ञात-अज्ञात देशभक्तों एवं सेनानियों को श्रद्धा सुमन अर्पित करते हुए उन्होंने कहा कि जिन्होंने देश को गुलामी की बे?ियों से मुक्त कराकर देश को आजादी दिलाने में अग्रणी भूमिका निभाई उनके सपनों का देश एवं प्रदेश बनाने के लिए सभी को संकल्पबद्ध होना होगा।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *