पहले बेटी से रेप, फिर हत्या और अब मां को फंसाने की साजिश रच रहे दबंग

पहले बेटी से रेप, फिर हत्या और अब मां को फंसाने की साजिश रच रहे दबंग



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

लखीमपुर खीरी। फूलबेहड थाना क्षेत्र में दबंगों ने पहले एक तेरह वर्षीय छात्रा का रेप किया, फिर उसकी बेरहमी से हत्या कर दी। अब हत्यारों ने मृतका की मां पर लांछन लगाते हुए मां को ही बेटी की हत्यारी साबित करने की साजिश रच डाली। इस जघन्य वारदात में फूलबेहड पुलिस की भूमिका भी सवालों के घेरे में है। हालांकि फूलबेहड पुलिस ने अपना दामन बचाने के लिए आनन फानन मे छात्रा के शव को पोस्टमार्टम के लिये जिला मुख्यालय भेज दिया तथा पच्चीस दिन से फरार चल रहे रेप के आरोपी को महज चार घंटों में ही तलाश कर गिरफ्तार कर लिया। उधर मृतका के परिजनों की मांग पर प्रशासन ने एक महिला डॉक्टर की मौजूदगी में तीन डाक्टरों के पैनल से छात्रा के शव का पोस्टमार्टम कराया तथा पोस्टमार्टम की वीडियोग्राफी भी करवाई। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मृतका की गला घोंट कर हत्या किए जाने की पुष्टि डाक्टरों ने की है।

सांकेतिक फोटो

मृतक छात्रा की मां का आरोप है कि फूलबेहड पुलिस की लापरवाही के चलते ही उसकी मासूम बच्ची की हत्या की गई है। अगर समय रहते पुलिस रेप आरोपी को गिरफ्तार कर लेती तो आज उसकी बेटी जिन्दा होती। मृतका की मां ने जानकारी देते हुए बताया कि बीती 30 सितंबर की रात को गांव के ही रज्जन मिश्रा ने उसकी नाबालिग बेटी के साथ असलहे की नोक पर रेप की वारदात को अंजाम दिया था। इस संबंध मे काफी जद्दोजहद के बाद फूलबेहड पुलिस ने आरोपी के खिलाफ मुकदमा तो दर्ज कर लिया था। लेकिन आरोपी को गिरफ्तार नही किया। पुलिस की शह पर आरोपी लगातार सुलह का दबाव बना रहे थे तथा धमकी दे रहे थे कि अगर सुलह नही करोगे तो तुम्हारी बेटी की हत्या कर देंगे।

बसपा सुप्रीमो मायावती ने एक और सूची जारी की, मचा हड़कम्प

पीडिता की मां ने रोते बिलखते बताया कि आरोपियों ने पहले उसकी बेटी की इज्जत तार तार कर दी, फिर उसकी बेरहमी से हत्या कर दी। अब हत्यारे उस पर ही लांछन लगा कर उसे ही बेटी की हत्यारी साबित करने मे जुटे है। मृतक छात्रा की मां ने भाजपा के एक कद्दावर नेता पर विपक्षियों की मदद करने का भी आरोप लगाया हैं। पीडिता ने बताया कि विपक्षी लगातार सुलह करने का दबाव बना रहे थे, ऐसा न करने पर अंजाम भुगतने की धमकी दे रहे थे, तब उसने 24 अक्टूबर को मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी, पुलिस अधीक्षक, जिलाधिकारी समेत उच्चाधिकारियों को अप्रिय घटना की आशंका के चलते शिकायती पत्र भेजा था। लेकिन बेखौफ हत्यारोपियों ने उसकी मासूम बेटी को मौत के घाट उतार दिया।

बसपा सुप्रीमो का ऐलान, अब इस राज्य की सीटों पर चुनाव लड़ेगी पार्टी, घमासान तेज


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *