पढने का विश्व रिकॉर्ड बनाने के नजदीक पहुंचे यतीश

पढने का विश्व रिकॉर्ड बनाने के नजदीक पहुंचे यतीश



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

गोला गोकर्णनाथ, खीरी। नेपाल व नाईजीरिया के विश्व रिकार्ड को तोड़कर अपने देश के नाम करने में लगे यतीश चंद ने गुरूवार की शाम तक लगभग 58 घंटे पूरे कर लिये। छोटी काशी में इस इवेंट के चलते जश्न का माहौल बना हुआ है।

कृषक समाज इण्टर कालेज के गोवर्धन हाल में यतीश ने 150 घंटे पढने का लक्ष्य रख नया कीर्तिमान बनाने के लिए मंगलवार सुबह साढे आठ बजे शुरूआत की थी। इन दिनों यतीश का इवेंट विद्यार्थियों, युवाओं में जोश भर रहा है। विद्यार्थी यतीश के नाम की तख्ती हाथों में लिए जोश के साथ उन्हें सुनने के लिए कार्यक्रम स्थल पर पहुंच रहे हैं, यही नहीं हाल के बाहर छात्र पटाखे छोंडकर ढोल की धुन पर खूब नाच रहंें हैं। यतीश पूर्व में चार जून को लगातार 148 घंटे,14 मिनट 13 सेकेंड पढाने का विश्व रिकार्ड बना चुके हैं। उनसे प्रेरित होकर जौनपुर के शिक्षक अलाउद्दीन अब यतीश का ही रिकार्ड तोड़ना चाहते हैं। इस इवेंट को देखने के लिए अलाउद्दीन गोला आए हैं, जो 30 सितंबर तक यतीश के नए कीर्तिमान बनने तक यहां रहेंगे। इवेन्ट में एसडीएम अखिलेश यादव, पालिकाध्यक्ष मीनाक्षी अग्रवाल, व राज्यसभा सांसद रविप्रकाश वर्मा की उपस्थित यतीश का मनोबल बढाती रही।

यह भी पढ़ें … लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा की बड़ी जीत, उपुचनाव में सपा से छीनी ये सीट

इस मौके पर प्रधानाचार्य डा. लखपतराम वर्मा, डा. अनिल कुमार, पलविंदर सिंह, सौरभ दीक्षित, शिप्रा खरे, सुयश त्रिवेदी, रियाजुल हक, ललित विश्वास, अमनजीत, सुमित सेठी, शिप्रा खरे, केशव अग्रवाल, नरविंदर सिंह, वैशाली गुप्ता, प्राचार्य डा. निर्मल सिंह आदि मौजूद रहे।

58 घंटे में 24 बार लिया 2.36 मिनट का ब्रेक

नया रिकार्ड बनाने की दिशा में यतीश ने अब तक 58 घंटे पूरे कर लिये हैं। जिसमें 24 बार में केवल 2 घंटा 36 मिनिट का ब्रेक लिया। जिसमें सबसे लम्बा ब्रेक गुरूवार की सुबह साढे 4 बजे लिया था। उन्होंने न्यूनतम ब्रेक लेकर लगभग दो घंटा 39 मिनट का समय बचा कर रखा है। रिकॉर्ड बनाने के दौरान यतीश को हर घंटे पांच मिनट का ब्रेक नियमानुसार मिलता है।

यह भी पढ़ें … बाघ के हमले से गुस्साई भीड़ ने फूंकी चौकी, वन दारोगा को पीटा, 50 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज

 


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *