चुनाव से पहले एक और मोर्चे का गठन, भाजपा की बढ़ाई परेशानी

चुनाव से पहले एक और मोर्चे का गठन, भाजपा की बढ़ाई परेशानी



Lucknow. आगामी लोकसभा चुनाव 2019 और विधानसभा चुनाव से पहले एक और राजनीतिक मोर्चे के गठन ने सत्ताधारी दल भारतीय जनता पार्टी की मुश्किलें खड़ी कर दी हैं। राज्य में राजस्थान लोकतांत्रिक मोर्चा खड़ा हो गया है और इस मोर्चे का पहला कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित हुआ। सम्मेलन को पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा ने संबोधित किया। इस मोर्चा में जनता दल सेक्युलर, समाजवादी पार्टी, भाकपा, भाकपा मार्क्सवादी, भाकपा माले व एमसीपीआई पार्टी शामिल हैं। जयपुर के बनीपार्क स्थित करणी चारण छात्रावास में आयोजित सम्मेलन में इन पार्टियों के कार्यकर्ता मौजूद रहे।

पूर्व प्रधानमंत्री देवगौड़ा ने राजस्थान लोकतांत्रिक मोर्चा के कार्यकर्ता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि मेरा वामपंथी दलों से हमेशा से ही दिल का रिश्ता रहा है और हरकिशन सिंह सुरजीत को कभी नहीं भूल सकता। उन्होंने कहा कि चंद दिनों तक मुझे देश चलाने का मौका मिला था और हमने गरीबों व किसानों के लिए काम किया था। हम देश को कॉरपोरेट नहीं किसान की निगाह से देखते है।

यह भी पढ़ें … … तो राहुल गांधी, मायावती और अखिलेश आरएसएस के कार्यक्रम में होंगे शामिल

उन्होंने केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी बात बहुत करते हैं, लेकिन किसान के लिए कुछ करने को तैयार नहीं। देवेगौड़ा ने कहा कि जब तक देश का किसान खुशहाल नहीं होगा, तब तक यह देश तरक्की नहीं करेगा। उन्होंने राजस्थान के जाट आंदोलन की चर्चा करते हुए कहा कि हमने कभी भी आंदोलन को कूचलने का काम नहीं किया। मेरी सरकार ने ही तब जाटों को आरक्षण दिया था।

यह भी पढ़ें ..अखिलेश यादव ने सीएम योगी को लेकर किया खुलासा, मचा हड़कम्प

देवेगौड़ा ने कहा कि आज देश समाज में बंट रहा है, लेकिन हम ऐसा नहीं होने देंगे। आगामी विधानसभा चुनाव में हमारा मोर्चा यहां चुनाव लड़ेगा। सम्मेलन को जनता दल सेकुलर के महासचिव दानिश अली ने भी संबोधित किया। उन्होंने भाजपा सरकार पर किसान विरोधी होने का आरोप लगाया। इस सम्मेलन में हालांकि देवेगौडा आए थे, लेकिन अधिकांश कुर्सियां खाली ही पड़ी थी।


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *