इस चुनाव में भी कांग्रेस की मिली बड़ी जीत, भाजपा ने मानी अपनी हार

इस चुनाव में भी कांग्रेस की मिली बड़ी जीत, भाजपा ने मानी अपनी हार



Share on FacebookTweet about this on TwitterShare on Google+Pin on PinterestShare on LinkedIn

New Delhi. आगामी लोकसभा चुनावों की तैयारी में जुटे भारतीय जनता पार्टी को करारा झटका लगा है। दरअसल, कर्नाटक विधानसभा चुनावों के बाद निकाय चुनावों में भी भाजपा को हार का सामना करना पड़ा है। कर्नाटक में शहरी निकाय चुनावों में घोषित 2628 सीटों के नतीजों में कांग्रेस की बढ़त बरकरार है। कांग्रेस के खाते में 988, भाजपा के खाते में 929 और जेडीएस के खाते में 378 सीटें आई हैं।

बीते दिनों कर्नाटक में हुए विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी को हार का सामना करना पड़ा था। हालांकि भाजपा सबसे बड़ी पार्टी के तौर पर उभरी थी, लेकिन कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन के बाद भाजपा के मुख्यमंत्री को बहुमत साबित करने से पहले ही इस्तीफा देना पड़ गया था। वहीं, कांग्रेस और जेडीएस के गठबंधन के बाद कुमारस्वामी ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी। कर्नाटक में गठबंधन की सरकार के बाद निकाय चुनाव में उसकी परीक्षा के तौर पर भी देखा जा रहा था। हालांकि निकाय चुनावों में कांग्रेस और जेडीएस ने अलग—अलग चुनावों लड़ा था। चुनाव बाद गठबंधन की बात की जा रही थी।

यह भी पढ़ें… पाटीदार नेता हार्दिक पटेल की तबियत बिगड़ी, आखें करेंगे दान, वसीयत भी जारी की

निकाय चुनावों में कांग्रेस को बड़ी जीत हासिल हुई है। शहरी निकाय चुनावों में घोषित 2628 सीटों के नतीजों में कांग्रेस की बढ़त बरकरार है। कांग्रेस के खाते में 988, भाजपा के खाते में 929 और जेडीएस के खाते में 378 सीटें आई हैं। कांग्रेस और जेडीएस ने मिलकर 1,366 सीटें जीती हैं, जिसके साथ उन्हें स्पष्ट तौर पर भाजपा पर बढ़त और यूएलबी की अधिकतम सीटों पर कब्जा मिल गया है।

चुनावों के रुझान आने के बाद ही कर्नाटक भाजपा अध्यक्ष बीएस येदियुरप्पा ने पार्टी के प्रदर्शन को निराशाजनक बताया। उन्होंने कहा कि नतीजे उम्मीदों से ज्यादा खराब हैं। उन्होंने कहा कि गठबंधन सरकार की वजह से पार्टी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर पाई। हालांकि उन्होंने यकीन जताया कि लोकसभा चुनाव में भाजपा बहुमत से जीतेगी। बता दें कि निकाय चुनाव में कुल 8,340 उम्मीदवार मैदान में थे। शहरी निकाय चुनावों में कांग्रेस के 2,306 उम्मीदवार, भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के 2,203 और जनता दल-सेकुलर (जेडी-एस) के 1,397 मैदान में थे।

यह भी पढ़ें… पीएम मोदी की मंत्री स्मृति ईरानी का हाथ देख ज्योतिषी ने की थी ये भविष्यवाणी, जानकर आप रह जाएंगे हैरान


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *