पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लेकर इन्होंने की बड़ी भविष्यवाणी

पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को लेकर इन्होंने की बड़ी भविष्यवाणी



Lucknow. आगामी लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर राजनीतिक दलों ने तैयारियां तेज कर दी हैं। समाजवादी के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के चाचा शिवपाल यादव ने पार्टी छोड़ सियासत में सनसनी मचा दी है। यही नहीं, शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन कर दिया है। इस मोर्चे का संरक्षक मुलायम सिंह यादव को बनाया है। शिवपाल के मोर्चे के गठन के बाद से ही सियासी ​गलियारों में चर्चाओं का बाजार गर्म है। वहीं, राजनीतिक दलों में भी बयानबाजी का दौर शुरू हो गया है।

बीते करीब दो सालों से समाजवादी पार्टी में चाचा-भतीजे के बीच चल रही रार थमने का नाम नहीं ले रही है। आखिरकार शिवपाल यादव ने समाजवादी सेक्युलर मोर्चे का गठन कर ही लिया है। मोर्चे के गठन के बाद से ही सियासी गलियारों में चर्चाओं का बाजार गरम है। राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि शिवपाल यादव केेे मोर्चे से समाजवादी पार्टी को करारा झटका लग सकता है। लोकसभा चुनाव को लेकर होने वाले गठबंधन की भी मुसीबतें बढ़ा सकता है। वहीं, भारतीय जनता पार्टी भी पूरी तरह से चुनावी मोड में आ चुकी है।

यह भी पढ़ें … अब दिल्ली में मायावती के साथ आ रहा ये बड़ा दल, मचेगा सियासी घमासान

भाजपा नेता विपक्षी दलों के नेताओं पर लगातार हमलावर बने हुए है। राज्य सरकार के मंत्री ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के राजनीतिक करियर को लेकर ही भविष्यवाणी कर डाली। राज्यमंत्री राज्यमंत्री बलदेव ओलख ने अखिलेश को निशाने पर लिया। उन्होंने कहा कि अखिलेश के पास जीतने का कोई फार्मूला नहीं है, जिसके चलते उनकी सरकार चली गई। उन्होंने कहा कि जीतने का फार्मूला तो सिर्फ जनता के पास है। उन्होंने कहा कि अखिलेश के पास सिर्फ हारने का फार्मूला है। उन्होंने कहा कि वो आगे भी ऐसे ही हारते रहेंगे, क्योंकि जनता ही जीत का फार्मूला तय करती है। जनता जिसे चाहें जिता सकती है, चाहें जिसे हरा सकती है।

बता दें कि राज्यमंत्री बलदेव ओलख मिलक तहसील के पोस्ट ऑफिस में केंद्र सरकार की योजना का शुभारंभ करने पहुंचे थे। इसी दौरान उन्होंने अमर सिंह और आजम खान के विवाद को लेकर भी बड़ा खुलासा किया। उन्होंने कहा कि अमर सिंह और आजम खान केवल मीडिया की सुर्खियां बटोरने के लिए एक-दूसरे पर विवादित बयानबाजी कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें … यूपी में मायावती को इन नेताओं का मिला साथ तो भाजपा का हो जाएगा सूपड़ा साफ


You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *